गाजीपुर:निकाय चुनाव बना नाक का सवाल

217

गाजीपुर-नगर पालिका परिषद का चुनाव अपने पूरे शबाब पर चल रहा है। जहां भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार श्रीमती सरिता अग्रवाल हैट्रिक लगाने की तैयारी में है तो वहीं दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी दिनेश यादव नगर पालिका परिषद गाजीपुर के कार्यालय पर समाजवादी पार्टी का परचम लहराने को लेकर उत्साहित है। लेकिन नगर पालिका परिषद गाजीपुर का चुनाव इतना आसान नहीं है। जहां समाजवादी पार्टी को यह लगता है कि शरीफ राईनी के चेयरमैन का चुनाव न लड़ने और सपा उम्मीदवार का खुला समर्थन करने का उसे जबरदस्त फायदा होगा तो वहीं भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार श्रीमती सरिता अग्रवाल को भी विवेक सिंह शम्मी के समाजवादी पार्टी से उम्मीदवार नहीं बनाए जाने से राहत महसूस कर रही हैं, क्योंकि विवेक सिंह शम्मी सामान्य जाति से आते हैं और सामान्य जाति को भाजपा समर्थक माना जाता है।इतना तो तय है कि यदि शम्मी समाजवादी पार्टी के बैनर तले चुनाव लड़ते तो सवर्णों का अच्छा खासा मत अपने पाले में कर लेते। कहने का तात्पर्य है यह है कि विवेक सिंह को समाजवादी पार्टी द्वारा चेयरमैन पद का प्रत्याशी नहीं बनाने पर सरिता अग्रवाल और भाजपा का खेमा खुश है तो दूसरी तरफ शरीफ राईनी के हाथी चुनाव निशान से न लड़ने की वजह से समाजवादी पार्टी भी काफी उत्साहित है। वैसे इस चुनाव में वर्तमान गाजीपुर सदर विधायक जो कि समाजवादी पार्टी से आते हैं।वह इस चुनाव को अपनी प्रतिष्ठा से जोड़कर लगे हुए हैं। वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के प्रचारक भारतीय जनता पार्टी से बनिया वर्ग का मतदाता दूरी ना बनाएं इसलिए अल्पसंख्यक समुदाय के तांडव का भय दिखाकर मतों का ध्रुवीकरण करने में लगे हुए हैं। आने वाले समय में चुनाव परिणाम क्या होगा यह तो कोई नहीं जानता लेकिन सभी राजनैतिक दल के उम्मीदवार अपनी अपनी जीत को लेकर पुरजोर दावा करने में मतदाताओं के सामने लगे हुए हैं।

Play Store से हमारा App डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें- Qries