गाजीपुर-इंन प्रस्तावों पर योगी सरकार की लगी मुहर

लखनऊ-उत्तर प्रदेश सरकार की कैबिनेट बैठक खत्म हो गई है। बैठक में कैबिनेट 12 प्रस्तावों को पास किया है। धार्मिक स्थलों के विकास के लिए सरकार ने चित्रकूट के विकास का मॉडल तैयार किया है। सरकार ने यूपी बृज तीर्थ विकास परिषद के तर्ज पर चित्रकूट धाम विकास बोर्ड बनाएगी। जिससे चित्रकूट को एक धार्मिक स्थल के तौर पर विकसित किया जा सके। इस पर कैबिनेट ने मुहर लगा दी है।

वहीं, बेसिक शिक्षा में मृतक आश्रित की नियुक्ति प्रक्रिया में संशोधन का प्रस्ताव पास किया है। इससे पंचायत चुनाव के दौरान कोरोना से जान गवांने वाले अध्यापकों के आश्रितों को नौकरी मिलने में आसानी हो सकती है।
यूपी कैबिनेट की बैठक में इन 12 प्रस्ताव पर लगी मुहर-
1. यूपी नगरपालिका (भवन या भूमि के वार्षिक मूल्य पर कर ) 2021 नियमावली का प्रख्यापन का प्रस्ताव हुआ पास।
2. जेवर एयरपोर्ट के विस्तारीकरण के लिए भूमि को लीज पर दिए जाने के लिए स्टाम्प शुल्क में छूट दिए जाने का प्रस्ताव पास।
3. चित्रकूट धाम तीर्थ विकास परिषद विधयक विधानमंडल में रखे जाने के संबंध में प्रस्ताव पास।
4. जेवर एयरपोर्ट के विस्तारीकरण के लिए भूमि क्रय के सम्बंध में प्रस्ताव पास।
5. कोविड में 102 ऐम्बुलेंस के संचालन के लिए सेवा प्रदाता की शर्तों को छूट दिये जाने के सम्बन्ध में प्रस्ताव पास।
6. पीजीआई में एडवांस अपथलेमिक सेंटर व सर्विस ब्लॉक के निर्माण में उच्च विशिष्ट।
7. राम मनोहर लोहिया इंस्टिट्यूट के नए भवन में विद्युत के बाह्य संयोजन के सम्बन्ध में प्रस्ताव हुआ पास।
8. पीजीआई की विभिन्न योजनाओं के लिए पुनरीक्षित लागत के सबंध में प्रस्ताव पास।
9. 30 करोड़ पौध रोपण के लिए सभी विभागों को निःशुल्क पौधे दिए जाने के लिये प्रस्ताव पास हुआ।
10. यूपी लघु उद्योग निगम के कर्मचारियों को 7वें वेतन आयोग का लाभ दिए जाने का प्रस्ताव पास हुआ।
11. 6600 सरकारी नलकूपों के आधुनिकीकरण के लिये 285.79 करोड़ लागत पर लगी मुहर।
12. बेसिक शिक्षा में मृतक आश्रित की नियुक्ति प्रक्रिया में संशोधन।
योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में बैठक हुई…
इससे पहले मंत्री लोकभवन पहुंचे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में ये बैठक हुई। इसमें डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, डॉ. दिनेश शर्मा भी शामिल हुए। यह बैठक लोकभवन में हुई। बताया जाता है कि इस बैठक में स्वास्थ्य और उद्योग जगत के लिए बड़े फैसले हुई हैं। आधिकारिक घोषणा का इंतजार है।