गाजीपुर-ईट का भाव बढाने को मजबूर ईट भट्ठा व्यवसायी

गाजीपुर-उत्तर प्रदेश ईंट निर्माता समिति लखनऊ के आह्वान पर जीएसटी में बढ़ोत्तरी के विरोध में गुरुवार को जनपद ईंट निर्माता समिति ईकाई ने सरजू पांडेय पार्क में धरना-प्रदर्शन किया। जीएसटी के बृद्धि के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए इसे वापस लेने की मांग किया। इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि मांग पूरी होने तक हमारा आंदोलन जारी रहेगा।

धरना को सम्बोधित करते हुए समिति के महामंत्री लल्लन सिंह ने कहा कि जीएसटी काउंसिलिंग की 45वीं बैठक 17 दिसंबर को लखनऊ में हुई। इसमें 9 टीसी के अंदर डेढ़ करोड़ कम्पोजिट पर जीएसटी ईंट बिक्री पर 1 प्रतिशत से बढ़ाकर 6 प्रतिशत कर दिया गया है। 9 टीसी से बाहर जीएसटी दर 5 प्रतिशत से बढ़ाकर 12 प्रतिशत कर दिया गया है, जो एक अप्रैल 2022 से लागू हो जाएगा। यह ईंट भट्ठा व्यवसाय के साथ घोर अन्याय है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में अन्य व्यापार में 40 लाख के टर्न ओवर पर जीएसटी कर मुक्त है। गत दो वर्ष से कोविड-19 के चलते ईट भट्ठा व्यवसाय घाटे की स्थिति में है। अध्यक्ष रजनीकांत ने कहा कि व्यवसाय से जीएसटी दर को हटाकर कर मुक्त किया जाए। ग्रामीण परिवेश में जीएसटी की दर बढ़ने से ईंट का रेट 1 हजार से 15 सौ प्रति हजार बढ़ जाएगा। उन्होंने चेतावनी दिया कि हमारी मांगे नहीं मानी गई तो हम उग्र आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।

धरना के अंत में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से उप जिलाधिकारी अनिरुद्ध सिंह को सौंपा गया। इस अवसर पर श्यामनरायन सिहं, विपिन बिहारी राय, मुन्ना यादव, गोपाल राय, दीपचंद्र कुशवाहा, मो. आसिफ, रिंकू राय, मनोज सिंह, पवन राय, सदानंद यादव, सिंह सहित बड़ी संख्या में ईंट भट्ठा संचालक मौजूद रहे।