गाजीपुर-किन्नर कल्याण बोर्ड का गठन हमरे लिए वरदान है-काजल

गाजीपुर-उत्तर प्रदेश सरकार ने किन्नर कल्याण बोर्ड का गठन कर किन्नर समाज को सामाजिक मान सम्मान दिलाने के आलावा समाज के मुख्य धारा में अपनी प्रतिभा और कौशल दिखाने के सुनहरा अवसर प्रदान किया है। बोर्ड में किन्नरों को नेतृत्व देने पर किन्नर समाज के लोगों ने मिठाईयां बांटकर संगीतमय खुशी मनाया। सैदपुर की काजल किन्नर ने बताया कि योगी सरकार का यह फैसला राजनैतिक और सामाजिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि भारतीय समाज में लगातार किन्नर समुदाय अपनी पहचान और सम्मान के लिए संघर्षरत रहा है। समाज द्वारा हीन भावना से देखे जाने वाले किन्नर अपने अच्छे कामों से लोगों की अपने प्रति दकियानूसी सोच को धीरे धीरे ही सही लेकिन बदल रहे है। आज बहुत से किन्नरों को उनके लिंग के आधार पर नहीं बल्कि उनके काम के आधार पर जाना जा रहा है। उत्तर प्रदेश किन्नर कल्याण बोर्ड अब किन्नर समाज के दूर दराज के गांवों कस्बों में अभावग्रस्त गुमनाम जिंदगी जी रहे करीब ढेड़ लाख किन्नरों के लिए अवसर प्रदान करेगा। किन्नर कल्याण बोर्ड की कोशिश रहेगी कि अगर किसी घर में किन्नर लक्षणों के साथ कोई बच्चा पैदा हो तो उसे घर से न निकाला जाए। ऐसे बच्चों के स्वास्थ्य और शिक्षा की जिम्मेदारी बोर्ड लेगा और हर सम्भव उसकी मदद की जाएगी। हर मनुष्य की तरह वो बच्चा भी कुछ विशेष दैवीय गुण लेकर पैदा होता है उसे मौका और अवसर दें। उसके प्रतिभावान कला कौशल और बुद्धिमता पर ताली बजाकर उत्साहवर्धन करें। आज न्यायाधीश से लेकर मेयर प्रोफेसर जैसे कई अच्छे पदों पर किन्नर अपने ज्ञान विवेक और कार्यकुशलता का बेहतर परिचय दे रहे है। किन्नर लाली, श्रीदेवी, राधिका, हेमा आदि ने बताया कि हमलोगों को अब अपने बैंक खाते खुलने, आवास, बीमा, पेंशन आदि मिलने या अन्य सरकारी सुविधाएं मिलने की उम्मीद जगी है।

Also Read:  गाजीपुर- अब मौत मिले या न्याय-बोधा जयसवाल