गाजीपुर-किसी का घर जले और कोई अपना पिछवाडा सेंके

0
474

गाजीपुर-एक कहावत आज भी गावों में प्रचलित है कि “किसी का घर जले और कोई अपना पिछवाडा सेंके ” इस कहावत को महेन गांव के लोगों ने बर्तमान समय में चरितार्थ कर दिखाया ।करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र के दुबिहाँ मोड़ पर करईल के दर्जनो गांव के किसानों ने बाढ़ का पानी खेतो से नहीं निकलने तथा मगई नदी को अवरुद्ध कर मछली मारने के बिरोध मे किसान प्रशासन के खिलाफ धरने पर बैठ गये। लगातार बारिश तथा गंगा के जल स्तर मे बढ्ढोत्तरी से करईल के दर्जनों गावो मे पानी भरा हुआ है, इस पानी निकासी के लिए करइल के गांवो के लोग काफी परेशान होकर चितबड़ागांव मुहम्मदाबाद मार्ग को गुरुवार के दिन दोपहर 1:00 बजे जाम कर दिया। किसानों का कहना है की बाढ़ के आए पानी खेतो से निकल नहीं रहा है और महेंद्र गांव के पास मंगई नदी में जाल तथा करकट लगाकर पानी को अवरुद्ध कर मछली मारने का काम किया जा रहा है जिससे खेतों से पानी नहीं निकल रहा है अगर किसानों के खेतों से पानी समय से नहीं निकला तो उनके खेत मे फसल की बुआई समय से नहीं हो पाएगी। पानी निकासी के लिए करईल के दर्जनों गावो मे राजापुर, करीमुद्दीनपुर, भरौली, बिश्मभरपुर, गोडऊर, मसौनी, सियाडी, सोनवानी, सरदरपुर नसीराबाद, ढुडीहा, देवरीया, लौवाडीह, जोगा, रेडमार, सियाडी, गावो के ग्रामीणों ने कई बार उप जिलाधिकारी मोहम्मदाबाद को प्रार्थना पत्र भी दिया था लेकिन अब तक उस पर कोई ठोस कार्यवाही नही होने के चलते आज परेशान होकर ग्रामीणों ने मुहम्दाबाद चितबडागाव मार्ग को दुबिहाँ मोड के पास जाम कर दिया। जाम की सुचना पर पहुंचे उप जिलाधिकारी राजेश गुप्ता से ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को मौके पर बुलाने की मांग किया,उनका कहना है की जब तक जिला अधिकारी गाजीपुर मौके पर नहीं आते तब तक हम लोग जाम समाप्त नहीं करेंगे ।उपजिलाधिकारी द्वारा जल निकासी का शिघ्र अश्वाशन देने पर 2.25बजे जाम समाप्त हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here