गाजीपुर के सभी बसपा उम्मीदवारों मे ,जहुराबाद के कालीचरन सब से मजबूत उम्मीदवार

1835

गाजीपुर- उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनाव का शंखनाद हो चूका है। सभी पार्टी ने दंगल के लिए अपने-अपने पहलवान को लंगोट पहनाना शुरू कर दिया है। भाजपा और कांग्रेस ने अभी अपने पहलवानों को मैदान मे  तो नही उतारा है लेकिन पहलवानो का चयन अंन्तिम दौर मे है। गाजीपुर के सभी बसपा उम्मीदवारों का जातिय संतुलन देखा जाय तो उसमे कालीचरन का पलडा सब से भारी है। जमानियाँ से बसपा उम्मीदवार अतूल राय के जातिगत मतदाताओं की संख्या लगभग 15 से 20 हजार के मध्य है लेकिन सपा कार्यकर्ताओं और कैबिनेट मंत्री के अत्याचार और उत्पीड़न से नाराज दलितों और अल्पसंख्यक मतदाताओं का यदि साथ मिला तो अतुल राय कैबिनेट मंत्री के अहंकार को चकनाचूर कर सकते है। जंगीपुर मे बसपा बहुत मजबूत नही दिखाई दे रही है , कारण है राजभर और कुशवाहा मतदाताओं का भाजपाई होना है। जखनियाँ मे संजीव कुमार को सिर्फ चमार मतदाता कहां तक ले जायेगा यह तो समय ही बता पायेगा। गाजीपुर सदर के प्रत्याशी संतोष कुमार यादव का स्वजातीय मतदाता आत्महत्या करना तो मंजूर कर लेगा लेकिन हाँथी का बटन दबाना उसे स्वीकार नही है। सैदपुर मे राजीव किरन को सिर्फ चमार मतदाता चुनाव जीताता दिख नही रहा है। मुहम्मदाबाद विधान सभा मे विनोद राय कुछ कर पायेंगे ऐस कही से भी दिखाई नहीं देता है। गाजीपुर की एकमात्र विधान सभा जहुराबाद ही ऐसी विधान सभा है जहाँ राजभर और चमार मतदाता कालीचरन का बेडा पार करता दिखाई रहा है।

Play Store से हमारा App डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें- Qries