गाजीपुर-कोटेदार मस्त किसान पस्त, गेहूं क्रय केन्द्र

गाजीपुर- करंडा विकास खण्ड क्षेत्र के ग्राम लखनचंदपुर स्थित गेहूं क्रय केंद्र पर लगभग 10 जून 2021 से किसान अपने टोकन के साथ ट्रैक्टर पर गेहूं लाद कर खडे है। जिन लोगो का टोकन 11 जून से 15 जून में क्रय किया जाना था उन किसानों का भी गेहू अभी तक नही तौला गया। करंडा क्रय केन्द्र के इंचार्ज का कहना है कि 15 जून से से क्रय बंद हो गई है जबकि सरकार का कहना है कि गेहूं क्रय की समय सीमा 15 जून से बढ़ाकर 22 जून कर दिया गया है। जिन किसानों का गेहूं 1500 रूपये प्रति क्विंटल क्रय किया गया है उनका अभी तक डाटा फीडिंग नही हुआ है ।जो किसान अपना गेहू 10 दिनों से ट्रैक्टर पर टोकन सहित लेकर खड़ा है उनका गेहू ट्रैक्टर ट्राली मे ही वर्षा और नमी के चलते अंकुरित हो गया है।गेहूँ क्रय केन्द्र के इंचार्ज के हिटलरशाही के चलते आक्रोशित किसानों का कहना है कि अगर इनकी गेहू की तौल नही होती है तो किसान भूख हड़ताल पर बैठने पर मजबूर हो जाएंगे, क्योकि गेहू का सरकारी क्रय मूल्य 1975 रुपया है और अगर वह बिचौलियों को मजबुरी मे बेचेंगे तो उन्हे अपने गेहूं की किमत 1200 सौ या 1300 सौ रूपये प्रति कुंतल में बेचने पर मजबूर होना पडेगा। करंडा के लखनचन्दपुर क्रय केन्द्र पर मौजूद किसानों ने आरोप लगाया कि क्रय केन्द्र के इंचार्ज ने कोटेदारों से मिलकर उनके कोटे के गेहूं को जमकर खरीदारी कर क्रय सीमा पुर्ण होना दिखा रहे है।इस गड़बड़ घोटाले की जाँच हेतु जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया जायेगा।अभी भी क्रय केन्द्र पर किसान हरदेव सिंह सिसौडा़,रमेश यादव करंडा, अमित चौरसिया आदि लोग ट्रैक्टरों पर गेहूं लाद कर खडे क्रय का इंतजार कर रहे है। रिपोर्टर-हर्ष सिंह।