गाजीपुर-कौन सही ? आरोपित पुलिसकर्मी या महिला

गाजीपुर-दुल्लहपुर रेलवे स्टेशन रोड निवासिनी महिला द्वारा दुल्लहपुर थाने में तैनात तीन कांस्टेबलों पर संगीन आरोप लगाकर एसपी व मुख्यमंत्री से शिकायत किए जाने के मामले में नया मोड़ सामने आया है।

इस मामले में महिला द्वारा लगाए गए अवैध वसूली के आरोप पर पक्ष स्पष्ट करते हुए दुल्लहपुर एसओ शैलेश मिश्र ने बताया है कि उक्त खुदाबख्शपुर निवासिनी महिला शरीफुन्निशा के पुत्रों के खिलाफ पशु तस्करी के मुकदमे के साथ ही गोवध व पशु चोरी का मुकदमा दर्ज है। जिसमें वो वांछित है और उसी की गिरफ्तारी व पूछताछ के लिए पुलिसकर्मी उसके घर गए थे। लेकिन महिला ने खुद को ही पीड़ित दिखाकर अपने पुत्रों को जेल जाने से बचाने के लिए ये फर्जी आरोप लगा है। एसओ ने बताया कि महिला के दो पुत्रों के खिलाफ दुल्लहपुर थाने में पशु तस्करी का मुकदमा दर्ज है। वहीं एक पुत्र के खिलाफ मऊ के मोहम्मदाबाद कोतवाली में गोवध का मुकदमा दर्ज है और उस मामले में पुलिस उसकी तलाश भी कर रही है। वहीं दूसरे पुत्र सलमान के खिलाफ एक महिला ने उसके मवेशी चोरी करने की तहरीर दी है। बताया कि महिला के पुत्र फरार है और उनकी गिरफ्तारी हेतू पुलिस लगातार प्रयास कर रही है। बता दें कि उक्त महिला ने पत्र भेजकर शिकायत किया था कि थाने के तीन सिपाही उसके पुत्रों को फर्जी मामले में फंसाने के नाम पर 70 हजार रूपए वसूल चुके हैं और अभी भी 80 हजार रूपए मांग रहे हैं। उक्त महिला ने पत्र में यहां तक लिखा था कि उसके पुत्रों पर किसी भी तरह का मुकदमा दर्ज नहीं है। जबकि एसओ का कहना है कि वो मुकदमे में गिरफ्तारी से बचने हेतू फरार चल रहे है।अभी भी यह समझ से परे है कि आरोप लगाने वाली महिला सही है या आरोपित पुलिसकर्मी ?

Also Read:  नंदगंज की बन्द चीनी मिल और हवा में विकास की सियासत