गाजीपुर-गयी थी जान देने लेकिन ग्रामीण बने भगवान

गाजीपुर- घर से नाराज होकर रविवार की सुबह एक महिला ट्रेन से कटकर जान देने की नियत से रेलवे ट्रैक पर जा पहुंची। रेलवे लाइन के पास महिला को बैठा देखकर गांव के लोगों ने जब उससे उसका परिचय पूछा तो महिला ने रोते हुए अपनी सारी अपबीती ग्रामीणों को सुनाई। ग्रामीणों ने इस बात की जानकारी तत्काल सादात पुलिस को दी। जानकारी मिलते ही महिला पुलिस के साथ पहुंचे उप निरीक्षक ने उसे समझाबुझाकर थाना लाने के बाद उसके भाई को बुलाया और महिला को उसके भाई के साथ भेज दिया।

Also Read:  मैनपुर पावर हाउस का रेल राज्यमंत्री नें किया लोकार्पण

प्राप्त जानकारी के अनुसार मंझौली गांव निवासी नीलम कुशवाहा पत्नी प्रदीप कुशवाहा किसी बात को लेकर घरवालों से नाराज हो कर अपने घर से करीब 8 किलोमीटर दूर दक्षिण में स्थित सवास गांव के पास से गुजर रहे रेलवे ट्रैक के करीब बैठकर ट्रेन के आने का इंतजार करने लगी।सुबस-सुबह रेलवे ट्रैक किनारे महिला को बैठा देखकर उधर से गुजरने वाले ग्रामीणों ने उत्सुकता बस पास पहुंचकर उससे किनारे बैठने का जब कारण पूछा तो महिला अपबीती बताते हुए रोने लगी। ग्रामीणों ने फौरन ही इसकी जानकारी पुलिस को दी। जानकारी होते ही महिला पुलिस के साथ उपनिरीक्षक महेंद्र यादव हेड कांस्टेबल राजाराम यादव और महिला कांस्टेबल रेशमा के साथ मौके पर पंहुच कर उसे समझा-बुझाकर थाने लेकर आये। एसओ शशिचन्द चौधरी ने शादियाबाद थाना क्षेत्र के मलिकपुरा निवासी महिला को उसके मायके वालों को इसकी जानकारी देकर थाना पर बुलाया और पुलिस ने महिला को समझा-बुझाकर उसके भाई के साथ भेज दिया।

Also Read:  ग्राम प्रधान के भ्रष्टाचार को उजागर करना ,बना मौत का कारण