गाजीपुर-गूंजेगा गोलियों की तड़ तड़ाहाट से जनपद ?

1
1519

गाजीपुर- कभी पूरे देश में हीरोइन तस्करी के लिए कुख्यात अपना गाजीपुर वर्तमान समय में बालू तस्करी के लिए काफी कुख्यात होता जा रहा है।इस बालू तस्करी के चलते गाजीपुर जनपद की जीवन रेखा हमीद सेतु बार-बार क्षतिग्रस्त हो जाता है और मरम्मत के लिए कई- कई महीनों के लिए बंद करना पड़ता है। इस बालू की तस्करी में कुछ तथाकथित सत्ता पक्ष के प्रतिष्ठित लोगों के साथ-साथ विपक्षी दल के प्रतिष्ठित नेता,क्षात्रनेता,दलाल, ट्रक मालिक,पुलिसकर्मी आदि जुड़े हुए हैं।इन बालू के तस्करों की अगर आपको गतिविधियां देखना है तो रात्रि 11:00 बजे आप रौजा तिराहा से रजागंज पुलिस चौकी,सुहवल ,रेवतीपुर,नवली,भदौरा , गहमर होते हुए नपद के अंतिम पुलिस चौकी बारा तक चले जाइए आपको जगह-जगह बालू लदे ट्रक,उनके अगल-बगल खडे बोगा नाम की अबैध ट्राली लगाये ट्रैक्टर नजर आएंगे।जहां सामान्य ट्रैक्टर ट्राली में 120 फुट बालू आता है वहां बोगा ट्रैक्टर ट्राली में 300 फुट बालू आराम से लादा जाता है।रात्रि को 11:00 बजे रौजा तिराहा से रजा़गंज पुलिस चौकी,थाना सुहवल, रेवतीपुर होते हुए पुलिस चौकी बारा तक जाएंगे तो रास्ते में आपको जगह-जगह आपको लग्जरी चारपहिया स्कॉर्पियो,सफारी, इन्डेवर जैसी गाड़ियां सड़क के किनारे लगी दिखाई देगी और इन लग्जरी गाड़ियों में तमाम असलहा धारी आराम से पूरी रात बैठ कर अपने-अपने ट्रकों को विभिन्न थानों व पुलिस चौकियों से पास कराते रहते हैं।रात का नजारा देखने पर ऐसा लगता है कि कहीं मुठभेड़ के लिए किसी बाहुबली सेना जा रही हो।मेरे एक मित्र ने बताया कि एक ट्रक ओवर लोड बालू को पास कराने मे 15 हजार की रिस्वत खर्च करनी पडती है।एक न एक दिन यह बालू की तस्करी भयानक मारकाट का रूप अवश्य लेगा,उस दिन गोलियों की तड़ तड़ाहट से जिला दहल जायेगा।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here