गाजीपुर- चौदह को होगा आन्दोलन

0
731

गाजीपुर-राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद जनपद गाजीपुर की एक आवश्यक बैठक आज दिनांक 5 अक्टूबर 2020 को दिन में 2:00 बजे से विकास भवन में संपन्न हुई । जिसमें राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रांतीय उपाध्यक्ष श्री धनंजय तिवारी ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग के निदेशक प्रशासन द्वारा एक परिपत्र जारी कर विभाग में 50 साल से ऊपर की उम्र वाले कर्मी और 30 साल से ऊपर वाले कर्मियों की दक्षता प्रमाणित ना होने पर छंटनी करने अर्थात अनिवार्य सेवानिवृत्ति करने हेतु एक कमेटी बनाकर प्रदेश के सभी स्वास्थ्य कर्मियों व अन्य कर्मियों को मानसिक रूप से हिला कर रख दिया है। राज कर्मचारी संयुक्त परिषद के जिला अध्यक्ष दुर्गेश कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रांतीय नेतृत्व के साथ मुख्य सचिव एवं अपर मुख्य सचिव कार्मिक के साथ कई बार हुई वार्ताओं यह बात स्पष्ट किया जा चुका है कि यह शासनादेश समान कर्मचारियों के प्रयोग हेतु नहीं है किसी कर्मचारियों की छटनी के उद्देश्य से यह शासनादेश नहीं बनाया गया है इसको ऐसा समझा जा सकता है कि कार्मिक विभाग द्वारा वर्ष 198 5व 89 वर्ष 1998 और वर्ष 2000 के मूल शासनादेश में जारी किया गया था शासनादेश के समान कर्मचारी प्रभावित नहीं हुआ अब कर्मचारियों अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने का उद्देश्य सबसे पहले प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग के निदेशक प्रशासन द्वारा एक कमेटी बना दी गई है लेकिन दक्षता प्रमाणित करने का आधार क्या होगा यह तय नहीं है ज्ञातव्य होगी पूर्व में इस शासनादेश का हवाला देते हुए कई विभागों द्वारा द्वेष पूर्ण रवैया अपनाते हुए कई कर्मचारियों को जबरन सेवानिवृत्ति किया जा चुका है जिस पर कर्मियों द्वारा न्यायालय की शरण ली गई औरन्यायालय ने आदेश को निरस्त करते हुए शासन को ठोस नीति के उपरांत ही अग्रिम कोई कार्रवाई हेतु निर्देश दिए थे निश्चित ही इससे प्रदेश में भ्रष्टाचार बढ़ेगा और तानाशाह पूर्ण रवैया के कारण कर्मचारी अंदर ही अंदर भयभीत होगा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के जिला मंत्री ओंकार नाथ पांडे वह परिषद के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अरविंद कुमार सिंह ने कहा कि वर्तमान समय में प्रदेश का चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग कोरोना वायरस से लड़ने में लगा हुआ है प्रदेश के कर्मचारी अपनी जान की परवाह किए बगैर कोविड-19 में कार्य कर रहे हैं बचाओ एवं उसके उपचार आदि मेकर्मचारियों द्वारा पूरी तरीके से सफलता भी प्राप्त की जा रही है ऐसे समय में कर्मचारियों को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए पारितोषिक दिया जाना चाहिए जबकि ऐसे समय मे प्रशासन द्वारा एक भया क्रांत करने वाले आदेश निर्गत किया गया जिसका परिणाम पूरे प्रदेश में देखने को मिला है प्रदेश के सभी कर्मचारी अत्यंत आक्रोशित हैं जिस के क्रम में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रांतीय आवाहन पर दिनांक 14 अक्टूबर 2020 को राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद जनपद शाखा गाजीपुर द्वारा विकास भवन परिसर में सुबह 11:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक विशाल धरना प्रदर्शन किया जाएगा बैठक के अंत में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद जनपद शाखा गाजीपुर के कोर कमेटी द्वारा निर्णय लिया गया कि विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति द्वारा चलाए जा रहे आंदोलन को समर्थन देने का निर्णय लिया गया साथ ही सरकार/ जिला प्रशासन को चेतावनी दिया गया कि अगर आंदोलनरत किसी भी कर्मी के ऊपर दमनात्मक नीति अपनाई जाती है तॊ उसी दिन से जनपद के समस्त राज्य कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी उक्त बैठक में अरविंद सिंह विजय शंकर राय राकेश कुमार पांडे अरुण श्रीवास्तव अश्वनी सिंह अजीत नाथ विजेता ओम प्रकाश यादव चंदन सुशील कुमार पांडे रविंद्र कुमार उद्धव सिंह चंद्रिका यादव अश्वनी सिंह पंचम राम नगीना यादव ईश्वर यादव दिनेश यादव आदि लोग उपस्थित थे बैठक की अध्यक्षता दुर्गेश कुमार श्रीवास्तव ने किया बैठक का संचालन ओंकार नाथ पांडे जी ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here