गाजीपुर-जब उसके घर पंहुचे डीएम

गाजीपुर-जनपद के लोकप्रिय जिलाधिकारी जब खुद किसी सामान्य नागरिक के घर जाकर उसके द्वारा किये गये नेक कार्य की सराहना करें तो आमआदमी का सीना कई गुना चौडा हो जाता है।ऐसा ही एक वाकया दिनांक16 जून 2021 को देखने को मिला।

जिले के ददरी घाट पर मंगलवार को गंगा की गोद में एक माह की नवजात मिलने व उसे गंगा से सुरक्षित बाहर निकालने वाले गंगापुत्र की कहानी सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ तक पहुंच चुकी है और उन्होंने गंगापुत्र का धन्यवाद अदा करते हुए मासूम का पूरा खर्च राज्य सरकार द्वारा उठाने की घोषणा की है। जिसके बाद अब गंगापुत्र का घर किसी सेलिब्रिटी के घर जैसा हो गया है और वहां पर डीएम समेत अन्य लोगों का जमावड़ा लगा हुआ है। मंगलवार को ददरी घाट स्थित गंगा तट पर तैरते हुए एक लकड़ी के बॉक्स में एक नवजात मिली थी। जिसमें अंदर मां दुर्गा की तस्वीर समेत उसकी कुंडली व उसे गंगापुत्री बताकर गंगा के हवाले करने की बात लिखी गई थी। कुंडली के अनुसार, मासूम का नाम गंगा था और उसकी उम्र एक माह से भी कम थी। उक्त बॉक्स को वहीं के गुल्लू मल्लाह ने देखा और उसे खोला तो उसमें बच्ची को देख वह हैरान रह गया। इसकी सूचना जब पुलिस को मिली तो पुलिस ने बच्ची को उपचार हेतू अस्पताल पहुंचाया। इस बात को प्रमुखता से प्रकाशित होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसका संज्ञान लिया और बच्ची का पूरा खर्च राज्य सरकार द्वारा उठाने की घोषणा करते हुए गुल्लू को धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री द्वारा संज्ञान लेते ही जिला प्रशासन पूरी तरह से सक्रिय हो गया और जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह गुल्लू के घर पहुंचे और उसे पीएम आवास देने की बात कही। जिस पर उसने बताया कि उसके पास पक्का मकान है। लेकिन नाव न होने की जानकारी पर जिलाधिकारी ने उसे नाव उपलब्ध कराने व उसकी मांग पर उसके घर तक रास्ता बनवाने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी के गुल्लू के घर पहुंचने के पहले व बाद में उसके घर पर लोगों की भीड़ जुट रही थी। वहीं बच्ची अब भी अस्पताल मे स्वास्थ्य और सकुशल है।

Also Read:  प्रसुता की मौत के बाद झोलाछाप डाक्टर पर एफआईआर दर्ज