गाजीपुर-जाते-जाते भी कह गये, आयुर्वेद अपनाएं

गाजीपुर-खानपुर क्षेत्र के सिधौना बाजार स्थित इशोपुर राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय के चिकित्साधिकारी डॉ रजनीश यादव ने लोगों को आयुर्वेद के प्रति जागरूक किया। डॉ रजनीश यादव का स्थानांतरण चंदौली जिले में हो गया है। गुरुवार को अपने विदाई समारोह में भावुक होते हुए भी डॉ रजनीश यादव ने कहा कि सुखद जीवन जीने के हर ज्ञान को आयुर्वेद ने खुद में समेट रखा है। कोरोनाकाल में आयुर्वेद ने अपनी उपयोगिता सिद्ध की है। भारतीय पुरातन चिकित्सीय पध्दति में आयुर्वेद का बड़ा महत्व है इसे पुनः आत्मसात करने की जरूरत है। अपने घर आंगन में औषधीय युक्त पौधों का रोपण अवश्य करें। आयुर्वेद को जिसने अपने जीवन में ढाल लिया वह व्यक्ति कभी बीमार नहीं पड़ सकता हालांकि इसके लिए आयुर्वेद के नियमों को सख्ती से लागू करना होगा और फिर आप देखेंगे कि आपके जीवन में किस तरह से बदलाव आता है। आयुर्वेद एवं यूनानी कर्मचारी संघ के अध्यक्ष सुनील चौबे सहित रामधारी यादव, हरिशंकर मिश्रा, दयालु सिंह, स्यामसुंदर विश्वकर्मा, घुरन यादव, कुबेर तिवारी, गुलाब यादव, तारा तिवारी आदि सम्मिलित रहे।