गाजीपुर-तो लग सकता है पुर्व मंत्री की लाटरी

गाज़ीपुर- उत्तर प्रदेश में जैसे-जैसे विधानसभा के चुनाव का समय नजदीक आता जा रहा है वैसे वैसे सत्ता पर काबिज होने के लिए राजनीतिक दलों द्वारा आए दिन नई-नई रणनीति तैयार की जा रही है। वहीं बीजेपी को सत्ता से दूर रखने के लिए विपक्षी दल सपा ,बसपा और कांग्रेस सहित अन्य दल के लोग वर्तमान योगी सरकार को ब्राह्मण विरोधी साबित करने पर तुले हुए हैं।विपक्षियों के इस आक्रमक तेवर को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने ब्राह्मण मतदाताओं को अपने पाले में बनाए रखने के लिए चार बड़े ब्राम्हण नेताओं की एक कमेटी गठित की है।जिसके तहत ब्राह्मण मतदाताओं को अपने पाले में कैसे बनाये रखा जाये इसकी पुरजोर कोशिश हो रही है। अगर गाजीपुर में विधानसभा के दावेदार ब्राम्हण चेहरों में देखा जाए तो पुर्व धर्मार्थ कार्य मंत्री जो सपा से बसपा और बसपा से अब भाजपा में आए हैं,उन से बेहतरीन कोई चेहरा भारतीय जनता पार्टी के पास गाजीपुर जनपद में दिखाई नहीं दे रहा है।ऐसी परिस्थितियों में पूर्व धर्मार्थ कार्य मंत्री विजय मिश्रा की यदि लॉटरी लग जाती है तो इसमें किसी को कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए। जनमानस में यह चर्चा आम है कि वर्तमान सदर विधायक सहकारिता राज्यमंत्री संगीता बलवंत भदोही से चुनाव लड़ने की तैयारी में है।सच क्या है यह तो आने वाला समय ही बताएगा लेकिन जिस तरह से सत्तारूढ़ भाजपा द्वारा ब्राह्मण मतदाताओं को अपने पाले में करने की जी तोड़ कोशिश हो रही है उसके अनुसार विजय मिश्रा की लॉटरी लग सकती है।

Also Read:  गाजीपुर-गांजा व तमंचा के साथ तस्कर गिरफ्तार

नये दावेदार और धुरविरोधी स्वागत समारोह में रहे अगलबगल- पिछली समाजवादी सरकार में सदर सीट से पहली बार विधायक बनकर राज्य मंत्री बनें विजय मिश्र अब बीएसपी का दामन छोड़कर भाजपा में शामिल हो चुके हैं, और रविवार 27 दिसम्बर को हजारों समर्थकों व सैकड़ो गाड़ियों के काफिले में स्थानीय भाजपा कार्यालय पहुंचे, जहां उनका स्वागत स्थानीय भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के साथ गाज़ीपुर की सदर विधानसभा से टिकट के दावेदारों ने भी किया। इसके बाद सदर सीट से बतौर प्रत्याशी पूर्व मंत्री विजय मिश्र की दावेदारी ने भी जोर पकड़ना शुरू कर दिया है, जबकि उनके अलावा पार्टी के दर्जनों लोग पहले से ही लाइन में लगे हुए हैं।गाज़ीपुर सदर विधानसभा सीट के बारे में एक टोटका, कई सालों से कहावत मशहूर है कि इस सीट से कोई प्रत्याशी दुबारा नहीं जीत सका , सत्य या असत्य चर्चा है कि बीजेपी आगामी यूपी विधानसभा चुनावों में सौ से ज्यादा सीटिंग एमएलए के टिकट काट सकती है, तो गाज़ीपुर में सबसे ज्यादा चर्चा में कोई सीट है, तो वो थी सदर सीट, लेकिन मौजूदा विधायक डॉ०संगीता बलवंत को अंतिम महीनों में सहकारिता राज्य मंत्री का दर्जा देकर बीजेपी द्वारा स्थानीय बिंद समाज के साथ यूपी के अति पिछड़ों को साधने की चर्चा भी आम हो गयी है। लेकिन वहीं उनका बार बार भदोही जाना भी खासा चर्चा में है। वहीं दो बार से नगरपालिका क्षेत्र में बीजेपी के बैनर तले चेयरमैन सीट पर कब्जा करने वाले विनोद अग्रवाल भी अपनी खुद की दावेदारी को लेकर चर्चाओं में हैं, अभी हाल में महामहिम मनोज सिन्हा के आगमन पर उनके लगे पोस्टर और होर्डिंग के साथ उनकी सक्रियता भी खूब चर्चाओं में है, नवोदित चेहरे पर यदि बीजेपी दांव खेलेगी तो विनोद अग्रवाल भी एक मजबूत चेहरे के रूप में दावेदारों की अगली पंक्ति में खड़े दिखते हैं। लेकिन इसे बीजेपी कल्चर कहें या ऊपर का निर्देश कि लखनऊ में बीजेपी के बड़े नेताओं के समक्ष पार्टी जॉइन करने वाले पूर्व मंत्री विजय मिश्र जब गाज़ीपुर भाजपा कार्यालय पहुंचे तो राज्य मंत्री डॉ० संगीता बलवंत और पूर्व चेयरमैन विनोद अग्रवाल दोनों लोग नए भाजपाई और पूर्व मंत्री विजय मिश्र का गर्मजोशी से स्वागत करने के बाद उनके अगल – बगल खड़े दिखाई दिए, जिससे गाज़ीपुर की सदर सीट पर एक पुराना चेहरा सशक्त समीकरण के साथ नई चर्चाओं के साथ आम हो गया। फिलहाल विजय मिश्र के स्वागत में पुराने समाजवादियों के साथ ब्राह्मणों का एक बड़ा तबका भगवा लपेटे देखा गया।

Also Read:  गाजीपुर-वीडियो कांफ्रेंसिंग में सीएम से विधायक संगीता,सुनीता व अलका राय नें की मांग