गाजीपुर-देश के दवा व्यापारियों में हडकंप

0
568

देश के दवा व्यवसायियों की सर्वोच्च संस्था एआईओसीडी ने प्रांतीय संस्था सीडीएफ यूपी की संबद्धता समाप्त कर किया बर्खास्त

देश के 8:50 लाख दवा व्यापारियों की सबसे बडी सर्वोच्च संस्था एआईओसीडी (ऑल इंडिया ऑर्गेनाइजेशन आफ केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट) ने दवा व्यवसायियों की प्रांतीय संस्था सीडीएफ यूपी (केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट फेडरेशन उत्तर प्रदेश) की संबद्धता समाप्त करके बर्खास्त कर दिया है ।

जी सी डी ए के ग़ाज़ीपुर के अध्यक्ष नागमणी मिश्रा ने बताया कि देश की सर्वोच्च संस्था एआईओसीडी की आज दिनांक 28 अक्टूबर 2020 की वर्चुअल मीटिंग थी, उत्तर प्रदेश के पूर्व महामंत्री श्री सुरेश गुप्ता पर विगत कुछ महीनों पहले संस्था के पूर्व संगठन मंत्री श्री सुधीर अग्रवाल जी द्वारा तथ्यों और सबूतों के साथ संस्था के धन का दुरुपयोग और गमन तथा अपने तानाशाही रवैया से प्रदेश के कुछ जिलों पर मनमाने तरीके से निष्कासन के कुछ आरोप लगाए गए थे जिस पर ऑल इंडिया संस्था ने श्री सुरेश गुप्ता जी से कई बार पत्र के माध्यम से माध्यम से फंड के गमन प्रकरण सहित अन्य मामलों में पूर्व प्रदेश महामंत्री से राष्ट्रीय संगठन ने पत्र जारी कर जवाब मांगा था अपनी स्थिति स्पष्ट करने की बात कही थी तथा चेतावनी भी दी थी कि उचित जवाब नहीं मिलने पर सीडीएफयूपी की संबद्धता समाप्त कर दी जाएगी ।
मालूम हो की इनसे सम्बन्धित होने कारण कुछ वर्ष पूर्व संस्था विरोधी कार्यो के देखते हुए दीपक उपाध्याय को भी ग़ाज़ीपुर केमिस्ट एन्ड ड्रग्गिस्ट एसोसिएशन ने बर्खास्त करते हुए छ साल के लिए संस्था से निष्कासित कर दिया था।

सुरेश गुप्ता पर लगाए गए आरोप निम्नलिखित है

1- यस बैंक गाजियाबाद के खाते के बारे में और एटीएम जारी होने के बारे में कोई जवाब नहीं दे पाये

2- महामंत्री द्वारा एटीएम कार्ड से Rs- 17,0 2,075 (17 लाख 2हजार 75 रुपए ) जो निकाला गया वह भुगतान किसको गया

3- रुपया 3,63,05,665 (3 करोड़ 63 लाख 5 हजार 6सौ 65 रुपया) जो गलत और फर्जी तिरुपति हॉलीडेज प्राइवेट लिमिटेड जेएस टूर एंड ट्रेवल्स के साथ संस्था के धन का दुरुपयोग किया उसके बारे में कोई जवाब क्यों नहीं दिए!

4- CDFUP के महामंत्री बनने से पहले ही CDFUP के नाम से जो फर्जी खाता खोलना मांगने पर उसका बैलेंस शीट क्यों नहीं प्रस्तुत किया गया

5- अपने निजी संस्था सोसायटी फॉर एनवायरमेंटल कंजर्वेशन में दवा निर्माताओं से अपने पद का दुरुपयोग करते हुए अब तक कितना का चंदा लिया है यह भी नहीं बताया

6- बिना किसी प्रस्ताव के आप द्वारा मनमाने तौर पर कार्पस फंड बनाया गया नियम विरुद्ध आप द्वारा मनमाना खर्च भी किया जा रहा है प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त फंड से से 1,00,00,000 (एक करोड़ रुपया) जाने का भुगतान आप द्वारा मनमाने ढंग से किया गया गया।

पूर्व प्रदेश महामंत्री श्री सुरेश गुप्ता जी ने ऑल इंडिया संगठन को जो भी जवाब दिया वह आधा अधूरा व गुमराह करने वाला जवाब था । जिस पर देश की सर्वोच्च संस्था ऑल इंडिया ने पांच सदस्यों की देखरेख में ओडीसी कमेटी का गठन किया जो इस मामले की पूरी तरह से जांच कर अपनी रिपोर्ट ऑल इंडिया कमेटी को सौंपेगी, ओडीसी कमेटी ने इनको पूरा अवसर दिया परंतु अपनी सफाई में यह कोई भी संतोष जनक सबूत प्रस्तुत नहीं कर पाए ओडीसी कमेटी ने अपनी रिपोर्ट राष्ट्रीय संगठन को सौंप दिया आज दिनांक 28 अक्टूबर 2020 को ऑल इंडिया संस्था ने ऑडिसी कमेटी का जो रिकमेंडेशन था उसको इसी ने पास किया था और आज एआईओसीडी कि एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी जनरल मीटिंग में देश के 31 राज्यों में से 30 राज्यों ने अपनी सहमति प्रदान कर उस प्रस्ताव को पास कर दिया 31 वां राज्य उत्तर प्रदेश था जिसकी संबद्धता को समाप्त कर बर्खास्त कर दिया गया !

नागमणी मिश्रा
जिलाध्यक्ष
ग़ाज़ीपुर केमिस्ट एन्ड ड्रग्गिस्ट एसोसिएशन, ग़ाज़ीपुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here