गाजीपुर-नवनियुक्त 900 सौ शिक्षक घर मना रहे है छूट्टी

0
409

गाजीपुर-उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और गाजीपुर के जिलाधिकारी भ्रष्टाचार रोकने के लिए जीजान से प्रयास कर रहे हैं लेकिन उत्तर प्रदेश के भ्रष्टाचारी हैं कि भ्रष्टाचार उनके रगों में दौड़ रहा है। इसका एक ताजा उदाहरण गाजीपुर जनपद में उस समय देखने को मिला जब जनपद के परिषदीय विद्यालयों मे नवनियुक्त शिक्षकों, जिनकी संख्या 900 है। इन को नियुक्ति पत्र मिल चुका है लेकिन अभी उनको विद्यालय एलाट नहीं हुआ है।इन सभी नवनियुक्त शिक्षकों को छावनी लाइन में स्थित बालेश्वर पांडे आईटीआई में प्रतिदिन (अवकाश के दिनों को छोड़कर ) अपनी उपस्थिति दर्ज करानी होती है। लेकिन भ्रष्टाचारियों को भ्रष्टाचार करने के लिए रास्ता तलाशने में ज्यादा देर नहीं लगती। आईटीआई के दो बाबूओं ने इन शिक्षकों को कायदे से समझा दिया कि जब तक आपको विद्यालय एलाट नहीं होता है तब तक आप या तो गाजीपुर में किराए के मकान में रहेंगे या आप प्रतिदिन अपने निवास स्थान से आएंगे।इसमें आपका महीना में कम से कम 10 हजार तो खर्च होही जायेगा।अगर इससे से बचना चाहते हैं तो आप हमें महीना देने की बात तय कर लीजिए और जब मन करे हफ्ता-दश दिन मे आकर सब दिन की हाजिरी एक ही दिन लगा देना। इस भ्रष्टाचार मे दोनों क्लर्कों और नवनियुक्त अध्यापकों दोनों को अपना फायदा दिखा और सहमत हो गये।जब इस बात की जानकारी गाजीपुर टुडे एडमिन को हुई तो उन्होंने अपने एक पत्रकार मित्र को साथ लिया और छावनी लाइन में स्थित बालेश्वर पांडे आईटीआई कालेज पंहुचे,वहां चारों तरफ सन्नाटा पसरा हुआ था। खोजते खोजते एक परिचारक महोदय मिले जब उनसे पूछा गया कि नवनियुक्त 900 शिक्षक है उनकी अटेंडेंस कहां लगती है ? तो उन्होंने कहा कि आज सेकंड सटरडे की छुट्टी है। शायद परिचालक को यह नहीं पता था कि परिषदीय विद्यालयों में सेकंड सटरडे की छुट्टी नहीं होती।इस संदर्भ में जब बेशिक शिक्षा अधिकारी से हमारे पत्रकार मित्र ने मोबाईल से संपर्क करने का प्रयास किया गया तो बीएसए महोदय का फोन नहीं उठा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here