गाजीपुर-नुक्कड़ नाटक व कैम्पेन जनसंख्या नियंत्रण मे कारगर-डा.राजकुमार यादव

गाजीपुर: 11 जुलाई को दुनिया भर में विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जा रहा है।इसका उद्देश्‍य दुनियाभर में बढ़ती आबादी से जुड़ी समस्‍याओं के प्रति लोगों को जागरुक करना है।सामाजिक कार्यकर्ता शमीम अंसारी एवं अपने जमाने में क्षेत्र के मशहूर डा.राम कुमार सिंह यादव ने बताया कि हमारे देश के लिए भी बढ़ती आबादी कई समस्‍याओं का कारण बनती जा रही है।इसकी वजह बर्थ कंट्रोल से जुड़ी जानकारियों का अभाव भी माना जाता है।बढ़ती आबादी की इसके अलावा भुखमरी की भी बड़ी वजह है।उन्होने बताया कि गरीबी उन्मूलन के लिए काम करने वाले संगठन ‘ऑक्सफैम’ के अनुसार दुनियाभर में भुखमरी के कारण हर एक मिनट में 11 लोगों की मौत होती है।ऑक्सफैम ने ‘दि हंगर वायरस मल्टीप्लाइज’ नामक रिपोर्ट में कहा,भुखमरी से मरने वाले लोगों की संख्या कोविड-19 के चलते जान गंवाने वालों की संख्या से ज्यादा हो गई है।और कहा कि बढ़ती आबादी का एक मुख्य कारण है कि लोगों ने जानकारी की भारी कमी है।ऐसे में सरकार के साथ सामाजिक संस्थाओं को भी आगे आना चाहिये तथा कैम्पेन या नुक्कड़ नाटक कर लोगों को विस्तार से समझाना चाहिये कि बढ़ती हुई जनसंख्या कितना बड़ा संकट है और इससे उनके जीवन पर क्या प्रभाव पड़ेगा।और इसके साथ ही साथ लोगों को फैमिली प्‍लानिंग का महत्व बताना चाहिये।उन्हें बताएं कि छोटा परिवार ही सुखी परिवार है।अगर परिवार छोटे होंगे तो सभी को आगे बढ़ने के उचित अवसर,शिक्षा,दीक्षा और खान-पान मिल सकेंगे।नहीं तो परिवार में कई मुश्किलें आ सकती हैं।बढ़ती जनसंख्या के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए उन्हें बर्थ कंट्रोल के तरीकों के बारे में विस्तार से बताना चाहिये।आंचलिक इलाकों में आज भी लोग इस मामले में खुलकर चर्चा करने में हिचकिचाते हैं और बर्थ कंट्रोल के तरीके के बारे में नहीं पता होता है।ऐसे में उन्हें पर्सनल हाइजीन,कॉन्डम और गर्भनिरोधक गोलियों के बारे में समझाना चाहिये।शमीम अंसारी ने बताया कि
सरकार द्वारा लाया जाने वाला जनसंख्या नियंत्रण कानून के बारे में उन्होंने बताया कि इस प्रकार के कानून की आवश्यकता है लेकिन इस पर विस्तृत चर्चा करके ही लाया जाना चाहिए।
उन्होंने यह भी बताया कि जनसंख्या नियंत्रण कानून से कन्या भ्रूण हत्या तथा गर्भपात को बढ़ावा मिलेगा। रिपोर्टर-शमीम