गाजीपुर-नेताओं द्वारा समुद्र मंथन की तरह पुर्वांचल मंथन

गाजीपुर-वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश में विधानसभा के चुनाव को देखते हुए राजनैतिक दलों द्वारा समुंद्र मंथन की तर्ज पर पूर्वांचल मंथन का कार्यक्रम जोरशोर चल रहा है. जहां समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव अपनी विजय यात्रा के तीसरे चरण का शुभारंभ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर से कर रहे हैं । गोरखपुर के बाद आखिलेश यादव का अगला पड़ाव कुशीनगर होगा। दूसरी तरफ प्रदेश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के चाणक्य कहे जाने वाले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 12 व 13 नवंबर को अपने पुर्वांचल दौरे के तहत वाराणसी और आजमगढ़ में रहेंगे। अपने पूर्वांचल प्रवास के दौरान केन्द्रीय गृहमंत्री वाराणसी मे भाजपा पदाधिकारियों को चुनाव जितने का मंत्र बतायेंगे। वाराणसी के बाद केन्द्रीय गृहमंत्री आजमगढ़ चले जाएंगे। आजमगढ़ में राज्य विश्व विद्यालय का शिलान्यास के बाद जनसभा को संबोधित करेंगे।इस जनसभा मे उनके साथ योगी आदित्यनाथ, केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा तथा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रत देव सिंह भी उपस्थित रहेंगे।केन्द्रीय गृहमंत्री की जनसभा को सफल बनने हेतू भाजपा कार्यकर्ता व पदधारियों ने अपनी पुरी ताकत लगा रखा है।इसके बाद केन्द्रीय गृहमंत्री बस्ती जायेंगे जहां सांसद खेलकूद कुंभ का शुभारंभ करेंगे।

Also Read:  गाजीपुर-बृहस्पतिवार को शादी थी और बुद्धवार को प्रशासन नें कर दिया कोरंटिन

शिवपाल सिंह यादव भी12 व 13 नवंबर को पुर्वांचल के जनपद बलिया मे अपने सामाजिक परिवर्तन यात्रा के माध्यम से फेफना आदि मे जनसभा को संबोधित करते नजर आयेंगे। बलिया के बाद शिवपाल सिंह यादव अगले दिन गाजीपुर के कासिमाबाद का रूख करेंगे।

असली घमासान 16 नवंबर को-पूर्वांचल में असली घमासान तो 16 नवंबर को होने वाला है। जहां एक तरफ भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का लोकार्पण करने के लिए सुल्तानपुर जनपद में आ रहे हैं तो उसी दिन समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का आगमन गाजीपुर जनपद के पखनपुरा में हो रहा है। पखनपुरा पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का अंतिम छोर है। 16 नवंबर को अखिलेश यादव पखनपुरा में जिस जनसभा को संबोधित करेगें उसमे भारी भींड जूटाने के लिए समाजवादी पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता आज से ही जीजान से जूट गये है।जनसभा को संबोधित करने के बाद पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर फर्राटा भरते हुए लखनऊ की तरफ बढ़ेंगे। अपने इस कार्यक्रम से अखिलेश जनता को यह संदेश देना चाहते हैं पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का लोकार्पण भले प्रधानमंत्री भारत सरकार आज कर रहे हैं लेकिन पूर्वांचल एक्सप्रेस वे समाजवादी पार्टी के सरकार की ही देन है।अगर निष्पक्ष कहा जाय तो पूर्वांचल एक्सप्रेस वे की परिकल्पना समाजवादी पार्टी की सरकार के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ही है।यह अखिलेश सरकार का ड्रीम प्रोजेक्ट था अखिलेश सरकार ने पूर्वांचल एक्सप्रेस वे को लखनऊ से बलिया तक प्रस्तावित किया था लेकिन बिहार से जुड़ा होने के कारण इसके लिए केंद्र सरकार से अनुमति लेनी जरूरी थी जब केंद्र सरकार द्वारा अनुमति दिए जाने में विलंब होने लगा तो अखिलेश ने पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की लंबाई लखनऊ से गाजीपुर तक करके इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य प्रारंभ करा दिया। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे लखनऊ के चंदसराय गांव से शुरू होकर गाजीपुर के हैदरिया तक बननन था। लेकिन सत्ता बदल गई और भारतीय जनता पार्टी की सरकार प्रदेश में सत्तारूढ हुई लेकिन धन्यवाद की पात्र भारतीय जनता पार्टी की सरकार भी है जिसने विरोधी राजनीतिक दल की योजना को स्थगित न करते हुए इसको पूर्ण कराने में अपना एड़ी चोटी का जोर लगा दिया।

Also Read:  गाजीपुर-कपडा़ व्यवसायी का एक और हत्यारा गिरफ्तार