गाजीपुर-पंचायत सहायक बनने के लिए निर्वाचित दे रहे पदों से इस्तीफा

गाजीपुर-अपने ग्रामसभा में पंचायत सहायक पद पर नौकरी पाने की लालसा में पंचायत पदों पर निर्वाचित पदाधिकारी त्यागपत्र देकर नियुक्ति पाने की कोशिश कर रहे है। उत्तरप्रदेश सरकार ने सभी ग्रामसभाओं के 58 हजार 189 कम्प्यूटर ऑपरेटर के रूप में पंचायत सहायक का पद सृजित कर गांव के प्रतिभावान युवक युवतियों को नौकरी पाने का सुनहरा मौका दे रही है। अपने ही गांव में इंटरमीडिएट उत्तीर्ण कम्प्यूटर का ज्ञान रखने वाला सर्वोच्च मेरिट प्राप्त उम्मीदवार डाटा ऑपरेटर या पंचायत सहायक बनाया जाएगा। तीस जुलाई से शुरू हो रहे भर्ती के लिए आवेदन प्रक्रिया में सरकार ने शर्त रखी है कि गांव के ग्रामप्रधान, उपप्रधान, पंचायत सदस्य एवं पंचायत सचिव के परिवार से संबंधित या रक्त संबंधी लोग इस पद के लिए आवेदन नही कर सकते। ग्रामीण इलाकों में अधिकांश ग्रामसभाओं एक दो पंचायत सदस्य ऐसे है जो पंचायत सहायक पद के लिए उम्मीदवारी करना चाहते है परंतु उनके सामने गांव का पंचायत सदस्य होना उनके मार्ग का बाधक है। इसलिए कई ग्राम्य पंचायत सदस्यों ने अपने पद का त्यागपत्र लेकर सैदपुर ब्लाक मुख्यालय का प्रतिदिन चक्कर काट रहे है। गोरखा गांव के संतोष कुमार और राहुल चौबे कहते है कि ग्राम सदस्य बनकर कुछ आर्थिक उपार्जन नही किया जा सकता इसलिए हमलोग पंचायत सदस्य पद से इस्तीफा देकर पंचायत सहायक बनना चाहते है। खंड विकास अधिकारी सैदपुर दिनेश मौर्य ने बताया कि किसी भी निर्विरोध या सविरोध प्रक्रिया से निर्वाचित पंचायत सदस्य या पंचायत पदाधिकारी अपने दायित्व को पूरा करने में असर्मथ है या समयाभाव के कारण पद से त्यागपत्र देना चाहता है तो उसके कारणों की जांच पड़ताल कर उसके प्रार्थनापत्र को स्वीकार कर उसे पंचायत पद से मुक्त कर दिया जाएगा।