गाजीपुर-पर्यावरण प्रेमी उमेश श्रीवास्तव व ईश्वर चंद्र को शासन ने दी बड़ी जिम्मेदारी

गाजीपुर-जनपद के सोशल एक्टिविस्ट और पर्यावरण प्रेमी उमेश श्रीवास्तव निवासी तुलापट्टी/ब्राम्हणपुरा (करण्ड)एवं ईश्वर चंद्र निवासी गहमर को शासन की तरफ से एक बड़ी जिम्मेदारी दी गई है. दिनोदिन घटते भूजल के स्तर को लेकर चिंतिंत सरकार ने एक आदेश के जरिए हर जिले में जिला जल प्रबंधन परिषद के गठन निर्देश दिया है. इस परिषद को कई बड़े टास्क सौंपे गए हैं.

शासन के निर्देश को अमलीजामा पहनाते हुए गाजीपुर जिला प्रशासन ने जिला जल प्रबंधन परिषद के गठन का आदेश निर्गत कर दिया है. शासन की मंशा के अनुरूप इस परिषद में भूगर्भ जल प्रबंधन के क्षेत्र में दीर्घकालिक कार्य का अनुभव रखने वाले एक विशेषज्ञ के रूप में उमेश श्रीवास्तव एवं ईश्वर चंद्र को नामित किया गया है.

Also Read:  शहीद की अंधी बेटी को 1 लाख प्रति वर्ष देंगे महंत भवानी नन्दन यति जी

जिला जल प्रबंधन परिषद का अध्यक्ष जिलाधिकारी को बनाया गया है. जिलाधिकारी के ठीक बाद नंबर दो पर सदस्य के रूप में भूगर्भ जल प्रबंधन में लंबा अनुभव रखने वाले विशेषज्ञ के तौर पर उमेश श्रीवास्तव एवं ईश्वर चंद्र का नाम शामिल किया गया है. ये परिषद कुल तेरह सदस्यों की है जिसमें ज्यादातर प्रशासन के अधिकारियों को शामिल किया गया है. परिषद में सीडीओ, जिला उद्यान अधिकारी, जिला उद्योग अधिकारी, प्रभागीय वनाधिकारी, अधिशाषी अधिकारी, अधिशाषी अभियंता, सहायक अभियंता लघु सिंचाई, जिला कृषि अधिकारी, सहायक अभियंता भूगर्भ जल विभाग आदि.

21 अक्टूबर को गठित इस परिषद की अभी पहली बैठक नहीं हुई है. पहली बैठक के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि इस परिषद को क्या अधिकार दिए गए हैं, साथ ही इस परिषद को क्या विशेष कार्य करने हैं. चिंता की बात ये है कि भूगर्भ जल जैसे संवेदनशील विषय पर बनाई गई कमेटी में नब्बे फीसदी से ज्यादा अफसरों को शामिल करने से कहीं इस कमेटी का हश्र भी दूसरी कागजी कमेटियों की तरह न हो जाए. कायदे से भूगर्भ जल को लेकर बनाई गई कमेटी में जिलाधिकारी व संबंधित विषय से जुड़े विभागों के दो तीन अन्य अधिकारियों के अलावा बाकी सभी सदस्यों को उनकी पर्यावरणीय सक्रियता के आधार पर समाज के बीच से लिया जाना चाहिए ताकि कमेटी में प्राण रहे, कमेटी का कार्य जमीनी स्तर पर दिखे.

Also Read:  गाजीपुर-सर्पदंश से बच्ची की मौत

फिलहाल तो शासन की मंशा को कागजों पर मूर्त रूप देते हुए जल प्रबंधन परिषद का गठन कर दिया गया है. देखना है कि इस परिषद के पर कितने खुले रखे जाते हैं और कितनी दूर व देर तक उड़ान भरने की इजाजत दी जाती है.

जल जंगल जमीन समेत कई संवेदनशील मसलों पर सदा सक्रिय रहने वाले उमेश श्रीवास्तव को शासन द्वारा भूगर्भ जल प्रबंधन परिषद में शामिल कर लेने मात्र से फिलहाल यह तो संकेत मिलता है कि उमेश श्रीवास्तव एवं ईश्वर चंद्र इस परिषद में अपनी मौजूदगी को यूं ही व्यर्थ न जाने देंगे.

Also Read:  गाजीपुर-आरक्षी रेफर ट्रामा सेन्टर