गाजीपुर-पशु तस्करों ने अपनाया तस्करी का नया तरीका

गाजीपुर-सैदपुर कोतवाली के कोटिशा गांव में मंगलवार की अल सुबह गो-वंशों का अवशेष पाए जाने से सनसनी फैल गई। गो-वंश के अवशेष मिलने की सूचना पर आसपास के लोगों की भीड़ लग गई। सूचना पर पुलिस भी पहुंची व आसपास के लोगों से पूछताछ की। पशु चिकित्सक ने पहुंचकर पोस्टमार्टम किया। इसके बाद अवशेष को वहीं पर गड्ढा खोदकर दफन कर दिया गया।

सुबह टहलने निकलने लोगों की नजर पड़ी तो गो-वंश के अवशेष कई टुकड़ों में फेंके गए मिले। यह खबर गांव में फैलते ही वहां भीड़ लग गई। लोग अपने-अपने हिसाब से कयास लगाने लगे। कुछ देर बाद क्षेत्राधिकारी बलिराम प्रसाद, प्रभारी कोतवाल घनानंद त्रिपाठी व हलका दारोगा पहुंचे। पुलिस की सूचना पर पशु चिकित्सक भी पहुंच गए और अवशेषों को एकत्र कर पोस्टमार्टम किया। आसपास के लोगों ने बताया कि मांस का धंधा करने वाले तस्करों ने यह कार्य किया है। संभवतः गो-वंश के अधिकांश हिस्सों को बेच दिया होगा, कुछ हिस्से बचे थे जिन्हें यहां खेत में फेंक दिया।

इधर इसका पता चलते ही आम जनता में रोष फैल गया। लोगों का कहना था कि गो-वंश को काटना गलत है। संभवतः क्षेत्र में कहीं न स्लाटर हाउस चोरी छिपे चल रहा है। इधर प्रभारी कोतवाल ने बताया कि मामला संज्ञान में है। अज्ञात के खिलाफ गो-वध निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा कायम कर मामले की छानबीन की जा रही है। साथ ही जहां अवशेष मिले हैं उस क्षेत्र में उपलब्ध मोबाइलों को ट्रैक किया जाएगा।