गाजीपुर-पुर्वांचल में कठिन हो सकती है भाजपा की राह

आजमगढ़ -.श लगातार दो चुनाव में करारी मात खाने के लिए समाजवादी पार्टी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर पूरी तरह सतर्क हो गयी है। पार्टी मुखिया अखिलेश यादव ने हाल में सुभासपा से गठबंधन कर पूर्वांचल में सत्ताधारी दल को बड़ा झटका दिया था। अब पार्टी की नजर पूर्वांचल के महिला वोट बैंक पर है। इन्हें साधने के लिए पार्टी ने महिलाओं की पूरी फौज उतार दी है जिसका नेतृत्व खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष जूही सिंह कर रही हैं।

⚡बता दें कि वर्ष 1991 के विधानसभा चुनाव के बाद से ही पूर्वांचल सपा और बसपा का गढ़ बन गया था लेकिन वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी इसमें सेंध लगाने में सफल हुई थी। इसके बाद बीजेपी ने संगठन की ताकत के जरिये पूर्वांचल पर पूरी तरह कब्जा कर लिया है। आजमगढ़ में बीजेपी भले ही आज तक अच्छा प्रदर्शन न कर पाई हो लेकिन वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में पूर्वांचल की 123 सीटों में से 105 सीटों पर कब्जा जमाने में सफल रही थी।

⚡अब वर्ष 2022 का विधानसभा चुनाव चंद दिनों में होने वाला है। बिना पूर्वांचल जीते कोई भी दल यूपी की सत्ता हासिल नहीं कर सकता। यही वजह है कि सभी की नजर पूर्वांचल पर है। खासतौर पर समाजवादी पार्टी ने पूर्वांचल में बीजेपी का किला भेदने के लिए पूरी ताकत से मैदान में उतर गई है। हाल ही में सपा मुखिया ने सुभासपा से गठबंधन कर ओम प्रकाश राजभर के जरिये राजभर मतों को साधने की कोशिश की। वहीं पार्टी ने बसपा के मजबूत स्तभ पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सुखदेव राजभर के पुत्र कमलाकांत को अपने पाले में कर राजभर मतों पर अपना दावा और मजबूत करने का काम किया लेकिन बीजेपी ने आजमगढ़ विश्वविद्यालय का नाम सुहेलदेव के नाम पर रखकर मास्टर स्टोक चलने में देर नहीं थी। जिससे सपा का दाव उतना प्रभावशाली होती नहीं दिख रहा जितना उसे उम्मीद थी।

⚡अब सपा की नजर पूर्वांचल के महिला मतदाताओं पर है। पार्टी अधिक से अधिक महिलाओं को पार्टी से जोड़ मिशन 2022 को फतह करने की कोशिश कर रही है। इसके तहत पार्टी का प्रयास हर घर तक पहुंचने का है। इसके लिए महिला सभा से जुड़ी बड़ी महिला नेताओं को मैदान में उतारा गया है। पिछले दो दिनों ने महिला सभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष जूही सिंह ने खुद कमान संभाल रखी है और पूरे जिले में जनसंवाद कर रही है। उनके साथ राष्ट्रीय सचिव सुनीता सिंह सहित महिलाओं की भारी भरकम टीम भी है।

⚡जूही सिंह केंद्र व प्रदेश सरकार को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ रही हैं। महिलाओं से संवाद कर उन्हें अखिलेश यादव की उपलब्धियां गिनाने के साथ योगी सरकार की नाकामी भी बताई जा रही है। इस दौरान महंगाई और महिला अपराध को विशेष तौर पर मुद्दा बनाया जा रहा है। जूही सिंह का कहना है कि योगी सरकार अब तक की सबसे अक्षम सरकार है। साढ़े चार साल में उत्तर प्रदेश में प्रदेश की भाजपा सरकार ने विकास के नाम पर एक भी इंर्ट नहीं रखी है। पिछली अखिलेश यादव की सरकार के कार्यकाल में जो भी कार्य हुए हैं उन्हीं का नाम बदलकर वाहवाही लूट रही है। महंगाई चरम पर है। लोग सरकार से नाराज है। खासतौर पर महिलाएं। यही वजह है कि लोग तेजी से हमारे साथ जुड़ रही हैं। आने वाले चुनाव में हमारी सरकार बननी तय है। कारण कि हम हर परिवार की महिला सदस्य को पार्टी से जोड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं।