गाजीपुर-पेंड़ से निकलता धूआँ, ग्रामीणों में चर्चा व कौतूहल का कारण बना

गाजीपुर- कासिमाबाद विकासखंड के ग्राम बेलसडी में रविवार की भोर में उस समय अफरा-तफरी मच गई जब एक देवस्थली के पास वर्षों पुराने नीम के पेड़ के तने में बने छेद(कोटर) से धुआं निकलने लगा, यह देख ग्रामीण चकित हो गए। नीम के पेड़ से धुआ निकलने की खबर पूरे गांव में जंगल की आग की तरह फैल गई। सबके मन में या कौतूहल पैदा हुआ कि आखिर उस पेंड़ से धुआ निकलने की बात सच है या गलत। इसी सूचना की पुष्टि को लेकर सुबह घटनास्थल पर लोगों के पहुंचने का जो क्रम शुरू हुआ तो देखते ही देखते सैकड़ों ग्रामीणों की भीड़ नीम के पेड़ के पास पहुंच गयी और ग्रामीणों ने अपनी आंखों से नीम के पेड़ से धुआं निकलते प्रत्यक्ष देखा। नीम के पेड़ से धुआं निकलते देख कुछ लोगों के मन में आस्था जाग उठी लोग इसे आस्था का प्रतीक बताने लगे तो कुछ लोग वैज्ञानिक या तकनीकी कारणों से जमीन के नीचे की आंतरिक गर्मी से ऐसा होना बताने लगे। ग्रामीणों ने जब नीम के कोटर से धुआं निकलता देखा तो समरसेबल चला कर कोटर में पानी भरने लगे लेकिन इसके बावजूद पेड़ से निकलता धुआं बंद नहीं हुआ।ग्रामीणों की सूचना पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंचकर पेड़ से धुआं निकलता देखा जिला स्तरीय अधिकारियों को इस घटना से अवगत कराया। उनका कहना था कि जिला स्तरीय जांच टीम की जांच के बाद ही यह बताया जा सकता है कि किस कारण से पेंड़ के छेद/कोटर से धुआं क्यों निकल रहा है। इस मामले को लेकर पूरे क्षेत्र में दिनभर ग्रामीणों के बीच चर्चा का विषय बना रहा। इस संदर्भ में जब कासिमाबाद तहसीलदार अमित शेखर से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि मुझे इस प्रकरण की कोई सूचना नहीं मिली है यदि सूचना मिलेगी तो जांच कराकर ग्रामीणों के संदेह को दूर किया जाएगा।

Also Read:  गाजीपुर-दुष्कर्म का आरोपी गया जेल