गाजीपुर-प्रकृति: रक्षित रक्षिता -जिलाधिकारी

गाजीपुर-विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून के अवसर पर जिलाधिकारी एम पी सिंह एंव मुख्य विकास अधिकारी श्री प्रकाश गुप्ता ने कैम्प कार्यालय पर
रूद्राक्ष एंव कृषि अनुसंधान केन्द्र पी जी कालेज गाजीपुर में पाकड़ एंव आम का वृक्षारोपरण कर जनपद वासियों से अधिक संख्या में वृक्ष लगाने का
आवाहन किया।
जिलाधिकारी ने कहा कि प्रकृति हमारी सबसे बड़ी धरोहर है, अर्थवेद में भी कहा गया है कि ‘‘प्रकृतिः रक्षति रक्षिता…‘‘ अर्थात प्रकृति से सुरक्षा
पाते रहने के लिए उसका संरक्षण करना जरूरी है, हमारी जिम्मेदारी है कि हम इसे सजोकर रखे और ज्यादा से ज्यादा पौधों को लगाकर इस धरा को हरा भरा बनाये। इसके साथ ही उन्होने पॉलीथिन प्रदूषण से मुक्त करने के लिए सभी से प्लास्टिक का प्रयोग न करने का आवाहन किया। उन्होने कहा कि प्रदूषण हमारे जीवन एवं प्राकृतिक मौसम पर प्रभाव डालता है इस हेतु प्रदूषण रोकने के लिए हम सबको यह शपथ लेनी होगी कि प्लास्टिक पॉलीथीन का प्रयोग नहीं
करेंगे। उन्होंने जनपद वासियों से अपने आस-पास साफ-सफाई रखने एवं वृक्ष लगाने को कहा। उन्होने प्रदूषण से मुक्त करने के साथ-साथ वर्षा ऋतु में
अधिक से अधिक वृक्ष लगाने हेतु प्रोत्साहित एवं प्रेरित किया।जिलाधिकारी ने कहा कि हम सब लोगो को वृक्षो के महत्व को समझना चाहिए।
उन्होने कहा कि वनो एवं वृक्षो से शुद्ध वायु, जल, वन प्राणियो को प्रकृतवास सहित अनेको लाभ प्राप्त होते है। मानव जीवन को सुखी व समृद्ध बनाने में असीमित योगदान रहा है। उन्होने कहा कि पर्यावरण की रक्षा के लिये सामाज के प्रत्येक व्यक्ति को कम से कम एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए तथा इसके साथ ही उसकी देख-भाल भी अत्यन्त आवश्यक है। पौधो के लगातार कटान से जल वायु में परिवर्तन होता जा रहा है। जिसके कारण दिन प्रतिदिन वर्षा में कमी आ रही है। जिलाधिकारी ने इस मौके पर सभी कर्मचारियों से अपेक्षा की कि बेहतर स्वास्थ्य एवं स्वच्छ पर्यावरण के लिये वह न केवल कार्यालय परिसर और घरों में पर्याप्त पेड-पौधे लगायें बल्कि उनकी समुचित देखभाल भी करें। जिलाधिकारी ने स्वयंसेवी संस्थाओ में पौधरोपण हेतु पौध वितरण किये।
मौके पर मुख्य विकास अधिकारी श्री प्रकाश गुप्ता, प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी जी0सी त्रिपाठी, प्रो0बालेश्वर सिंह एवं कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक एवं अन्य कर्मचारी उपस्थित थे।

Also Read:  गाजीपुर-सेना के जवान की इलाज के दौरान मृत्यु