गाजीपुर-प्रतिदिन शर्मसार होती आधी आबादी

0
308

गाजीपुर- हमें दुख होता है जनपद के तथाकथित जनप्रतिनिधियों को देखकर, अभी दो दिन पुर्व उत्तर प्रदेश के सरकार मंत्री और गाजीपुर जनपद के प्रभारी मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने जिलापंचायत सभागार मे दीप प्रज्वलित महिला सशक्तिकरण अभियान का शुभारंभ किया। उस समय प्रभारी मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने नारियों के सम्मान के लिये आज मिशन शक्ति का शुभारंभ किया है।आज हमें व समाज को महिलाओं के प्रति सोच को बदलने की जरूरत है।जिलापंचायत सभागार से निकल कर प्रभारी मंत्री जिला महिला अस्पताल पंहुचे और वहां बनने वाले 100 बेड के महिला अस्पताल की भूमि का पुजन किया।उस अवसर पर महिला जनप्रतिनिधियों सहित जनपद के तमाम आला अधिकारी भी उपस्थित थे। दिनांक 18 अक्टूबर को जनपद के एनआईसी सभागार मे सीधे आनलाईन मुख्यमंत्री से रूबरू हुई तमाम महिला जनप्रतिनिधियों ने एक बार भी जनपद की आधी आबादी को शर्मशार करने वाली समस्या की तरफ ध्यान आकृष्ट नहीं कराया। वर्षों से जनपद के जिला महिला चिकित्सालय मे एक अदद् महिला चिकित्सक की जरुरत है लेकिन किसी अधिकारी या जनप्रतिनिधि ने तो प्रभारी मंत्री से कहा और न ही मुख्यमंत्री को अवगत कराया। कल्पना करिये जब आपके परिवार की बहन,बेटी, वहु या माँ जिला महिला अस्पताल मे प्रेग्नेंसी चेक कराने या प्रसव के लिए जाती होगी और वह कार्य एक पुरूष चिकित्सक करता होगा तो वह कितना शर्मसार होती होगी लेकिन मजबुरी मे खामोश रहती है।।छोटे-छोटे मुद्दों को लेकर आयेदिन धरन-प्रदर्शन या पत्रक देने वाले सामाजिक संगठन या राजनैतिक दलों का ध्यान इस तरफ क्यों नहीं जाता ? गाजीपुर जनपद में प्रतिदिन आधी आबादी महिला चिकित्सालय में शर्मसार होती है और यहां के जनप्रतिनिधियों को यह दिखाई नहीं देता है। कहने को तो यहां तक कहा जाता है कि कोई जनप्रतिनिधि मुख्यमंत्री का दाहिना हाँथ तो कोई जनप्रतिनिधि मुख्यमंत्री का बाया है लेकिन इन दाएं बाएं रहने वाले जनप्रतिनिधियों का जनपद की आधी आबादी के लिये क्या मतलब है ? जब प्रतिदिन महिला चिकित्सालय में जनपद की आधी आबादी को शर्मसार होना पडे। ऐसे जनप्रतिनिधियों को या तो पद छोड देन चाहिए या चूल्लू भर पानी मे डूब मरना चाहिए जो एक महिला डाक्टर की जिला महिला में नियुक्त न करा सकें। यदि इस ब्लॉग से किसी के भावना को ठेंस पंहुची हो तो लेखक क्षमाप्रार्थी है-फुलचन्द सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here