गाजीपुर-प्रशासन की कार्यवाही पर मिडिया से क्या कहा गणेश बाबा ने ?

गाजीपुर- शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन द्वारा लगातार माफिया और भूमाफियों पर शिकंजा कसता जा रहा है। गाजीपुर और मऊ जिला समेत तमाम जगहों पर मुख्तार अंसारी और उनके करीबियों के खिलाफ लगातार प्रशासन द्वारा कार्यवाही की जा रही है। ताजा मामला मऊ जिले में मुख्तार अंसारी के करीबियों में शुमार गणेश दत्त मिश्र के प्लाटिंग( प्रॉपर्टी) पर मऊ जिला प्रशासन का बुलडोजर चला है। जिसकी सूचना गाजीपुर निवासी प्रॉपर्टी डीलर गणेश दत्त मिश्र को हुई तो वह गाजीपुर में मीडिया के सामने आ गए।

मीडिया से बातचीत के दौरान गणेश दत्त मिश्र ने कहा कि मेरा मुख्तार अंसारी से कोई संबंध नहीं है।योगी सरकार लगातार ब्राह्मणों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है उन ब्राह्मणों में एक मैं भी ब्राह्मण हूं जो कहीं ना कहीं एल.आई.यू. की रिपोर्ट के माध्यम से जानकारी मिली है कि मैं समाजवादी पार्टी से चुनाव लड़ने वाला हूं जिसकी इजाजत सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मऊ व गाजीपुर से चुनाव लड़ने को तैयारी करने के लिए कहा है। जिसके बाद से योगी सरकार लगातार हमको टारगेट कर रही है। मऊ में जिस भूमि पर जिला प्रशासन के द्वारा कार्रवाई की जा रही है वह भूमि न मेरी है और ना ही जिला प्रशासन मऊ के पास मेरे नाम से कोई एग्रीमेंट का कागज है। अगर है तो जिला प्रशासन मुझे दिखा दे मैं मान लूंगा कि मै मुख्तार अंसारी का करीबी हुँ। मैं विश्वास के साथ कहता हूं कि उस जमीन से मेरा कोई लेना देना नहीं है।मुख्तार अंसारी के करीबी होने के सवाल पर कहा कि मुख्तार अंसारी से मेरा कोई संबंध नहीं है। किस बिहाफ पर लोग कहते हैं कि मेरा मुख्तार अंसारी से संबंध है ।अगर किसी के पास कोई प्रमाण है तो मुझे दिखाएं। मुख्तार अंसारी, अफजाल अंसारी और उनके भाई शिवगुल्लाह एक जनप्रतिनिधि है उनके लाखों,हजारों लोगों से संबंध है वैसे संबंध हमारे भी हैं। लेकिन यह सरकार की नीति मुझे केवल बदनाम करने की है। राजनीतिक साजिश के तहत यह सब काम किया जा रहा है। बता दें कि गणेश दत्त मिश्रा के खिलाफ जिला प्रशासन द्वारा दिसंबर 2020 में मास्टर प्लान की अनदेखी कर छह मंजिला भवन बनाए जाने के खिलाफ जिला प्रशासन द्वारा ध्वस्तीकरण की कार्यवाही की गई थी । इसके खिलाफ मामला हाईकोर्ट में बिचाराधीन है।