गाजीपुर-फिर चक्रव्यूह में मारा गया अभिमन्यु

गाजीपुर-राजनीतिक महाभारत का अभिमन्यु साबित हुए राहुल यादव ‘आशीष’….
दादा स्व. रामकरन यादव और पिता डॉ विजय यादव से अभी पूरी तरह राजनीति का ककहरा भी नही सीख पाये थे कि त्रिस्तरीय पंचायत के चुनावी महाभारत में नौजवान राहुल को उतरना पड़ा!
इस राजयुद्ध में जब ब्लाक प्रमुख का चक्रब्युह रचा गया तब राहुल को मैदान में सबके सामने आना पड़ा…एक तरह दिग्गज महारथियों सजी सेना दूसरी तरफ़ अकेला अभिमन्यु जैसा राहुल अपने सामने के महायोद्धाओं से आशीष भी ले रहा था!
शनिवार की ढलती शाम जब युद्ध समाप्ति की घोषणा हुई तब लड़ाई हार चुके राहुल के युद्ध कला कौशल और युद्धकौशल की हर कोई सराहना करने लगा।
राहुल के प्रतिद्वंदी भी राहुल के जीवटता और संघर्ष क्षमता को सराहे बिना नही रह सके! सैदपुर के अनेकों नौजवानों ने अपने-अपने फेसबुक वाल पर सिर्फ और सिर्फ यही लिखा ” एक बार फिर सैदपुर के चक्रव्यूह मे मारा गया अभिमन्यु “। जिस रामकरन दादा की कृपा न जाने कितने विधायक व सांसद बने,मंत्री बने, एमएलसी बने,प्रमुख बने,जिला पंचायत सदस्य और चेयरमैन बने सभी ने मिलकर राहुल के खिलाफ कुचक्र रचा और अंततः राहुल को पराजय मिला।वैसे मेरा व्यक्तिगत तौर पर मानना है कि राहुल की पराजय भी एक उपलब्धि है क्योंकि जीता हुआ व्यक्ति राजनीति के बारे उतना नहीं जानता जितना पराजित व्यक्ति जानता है।