गाजीपुर-बकरीद पर पडी मंहगाई की मार

गाजीपुर-कुर्बानी के पर्व ईद उल अजहा यानी बकरीद पर लगातार दूसरे साल भी कोरोना संक्रमण का असर साफ नजर आ रहा है। एक तरफ जहां बकरों की ऑनलाइन बिक्री शुरू हो गई है, वहीं उनके दाम भी पिछले साल के मुकाबले बहुत ज्यादा बढ़ गया है। बाजार में बकरों की अधिकतम कीमत पिछले वर्ष से दुगनी तक पहुंच गई है। महंगाई, कोरोना संक्रमण और स्थानीय बाजारों में बकरा मंडी नहीं लगने के कारण आम आदमी परेशान है। बकरी पालकों के यहां भी मोमिन अपनी पसंद के बकरों और भेड़ों को कम दाम पर खरीदने के लिए मोलभाव कर रहे है। पिछले साल जहां पांच हजार में बकरे मिल जा रहे थे, वहीं इस बार दस हजार से शुरुआत हो कर अधिकतम कीमत चालीस हजार तक कीमत पंहुची है। वहीं दूसरी तरफ बाहर के व्यापारियों ने ऑनलाइन बकरों की बिक्री शुरू कर दी है। फेसबुक व्हाट्सएप पर बकरा मालिक अपना पता भी अपलोड कर रहे हैं ताकि ग्राहक आकर भी देख सकें। बकरीद पर कुर्बानी के लिए खास माने जाने वाला दुंबा इस बार भी बाजार में नहीं मिल रहा है।