गाजीपुर-बचन के पक्के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह

0
987

गाजीपुर-सैदपुर नगर के वार्ड नंबर 11 से सटे मदारीपुर में 27 फरवरी को भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अपने गोंद लिए चिकित्सक पुत्र के विवाह में शामिल होने के लिए आएंगे ,इसके अलावा केंद्रीय मंत्री डॉक्टर महेंद्र नाथ पांडे के भी साथ आने की उम्मीद जताई जा रही है। इसके लिए जिला प्रशासन तैयारियों में जुटा हुआ है और लगातार अधिकारियों का दौरा सैदपुर मे हो रहा है। इसके साथ ही गुरुवार को सेना के हेलिकॉप्टर ने भी हवाई जायजा लिया। गुरुवार को जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह व पुलिस अधीक्षक डॉक्टर ओपी सिंह ने कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया और रोड मैप तैयार किया। रक्षा मंत्री ने वर्ष 2002 में यूपी के मुख्यमंत्री रहने के दौरान कक्षा 8 में पूरे प्रदेश में टॉप करने पर विजेंद्र को गोद लिया था और तभी से उनकी तथा पूरे परिवार की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। अब उनके विवाह में पिता के कमी को पूरा करने के लिए शरीक होने भी आ रहे हैं। कुछ लोग इसे जहां एक पिता की जिम्मेदारी मान रहे हैं तो अन्य राजनैतिक दलों के लोग इसमें राजनैतिक निहितार्थ तलाशने में लगे हैं।वर्तमान में विजेंद्र अयोध्या के फैजाबाद स्थित गोसाईगंज सीएससी पर चिकित्सक के रूप में कार्यरत हैं। मूलत आजमगढ़ के रासेपुर स्थित वीरपुर गांव निवासी डॉ विजेंद्र कुमार के पिता जगन्नाथ का बचपन में ही निधन हो गया था। जिसके बाद उनकी मां सुशीला देवी विजेंद्र समेत अपने बाकी के दोनों बच्चों विपिन व मंजेश को लेकर सैदपुर के मदारीपुर स्थित अपने पिता स्वर्गीय गुलाम राम के यहां चली आई और इसके बाद यही उनकी परवरिश हुई ।यहां पढ़ाई के दौरान विजेंद्र को वाराणसी के मोहनिया स्थित राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय में प्रवेश दिला दिया गया। वहां से कक्षा 8 की बोर्ड परीक्षा में पूरे प्रदेश में टॉप किया था। तत्कालीन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह ने विजेंद्र को गोद लेकर जीवन भर उसकी जिम्मेदारी उठाने का वादा किया था। इसके बाद तीन भाइयों में सबसे बड़े विजेंद्र ने हाई स्कूल व इंटर की परीक्षा कानपुर से पास किया और एमबीबीएस की पढ़ाई बिहार के किशनगंज स्थित माता गुजरी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज से पूरी की और दिल्ली में संविदा चिकित्सक की नौकरी की। इसके बाद वर्तमान में उनकी तैनाती अयोध्या के फैजाबाद स्थित गोसाईगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर है।विजेंद्र ने बताया कि रक्षा मंत्री द्वारा गोद लिए जाने के बाद वो हमेशा उससे तथा उसकी मां से मिलते जुलते रहते हैं और फोन पर हाल चाल लेते रहते हैं। उन्होंने बताया कि उनकी शादी अनौनी के इटहां गांव निवासी कृतिका से तय हुई है और कृतिका के पिता रक्षा मंत्रालय के अधीन आयुध फैक्ट्री में है। 27 फरवरी को शादी तय है जिसके लिए बीते 14 फरवरी को शादी को वह तथा उनकी मां शादी का कार्ड देने के लिए दिल्ली स्थित रक्षा मंत्री के आवास पर मां के साथ गए थे। रक्षा मंत्री ने भरोसा दिया कि वो जरूर आएंगे। विजेंद्र की मां सुशीला देवी ने कहा रक्षा मंत्री भगवान है,अगर वह हमारे परिवार को सहयोग नहीं किया तो हम आज इस स्थिति मे नहीं होते। उन्होंने हर कदम पर साथ दिया वरना आर्थिक स्थिति इतनी बेहतर नहीं थी कि वह पढ़ाई जारी रख पाते।

Leave a Reply