गाजीपुर-बैकफुट पर प्रबंधन, काम पर लौटे मीटर रीडर

गाजीपुर- प्रदेश के अतिरिक्त प्रांतीय महामंत्री विद्युत मजदूर उत्तर प्रदेश निर्भय सिंह के निर्देशन पर आज दिनांक 13,11,2021 को जिले के समस्त मीटर रीडरो ने आमघाट गांधी पार्क में अपनी मांगों को लेकर धरना दिया। जिससे राजस्व वसूली विद्युत विभाग की पूरी तरह ठप रही।

मीटर रीडर संघ के जिलाध्यक्ष विनय तिवारी ने सभा को संबोधित करते हुवे बताया कि जिले में जो बिलिंग करवाने का ठेका स्टार्लिंग कंपनी को दिया गया है उसने मीटर रीडरों की अभी तक न्यूनतम मजदूरी तय नही किया है जो प्रति रीडिंग एक रुपये के हिसाब से मीटर रीडर लोग रीडिंग करने को तैयार नही हैं। जिले में अपने रसूख के बल पर सर्किल मैनेजर बने नवनीत त्रिपाठी जो पिछले चार साल से है हमारे पुराने रीडरों को बिना कारण हटाकर न्यू रीडरों से भरती के नाम पर 25000-25000 हजार रूपए लेकर नियुक्ति कर रहे है।उनका यह काम कही ना कही भ्रस्टाचार को बढ़ावा देने वाला है यह तानाशाही बर्दाश्त नही की जाएगी। बिलिंग टारगेट रूलर में 1800 से 1500 किया जाय एव अर्बन में 2200 से 1800 प्रति माह के लिए धरना चल रहा था। रीडरों के आक्रोश को देखते हुवे वार्ता के लिए अधीक्षण अभियंता के निर्देश पर अधिशासी अभियंता विद्युत श्री आदित्य पांडेय आये एव सभी मीटर रीडरों को संबोधित करते हुवे वादा किये की स्टार्लिंग कंपनी के जनरल मैनेजर मनोज त्रिपाठी से टेलीफोन पर वार्ता हुई जिसमें उन्होंने आश्वस्त करते हुवे बताया कि सर्किल मैनेजर नवनीत त्रिपाठी को हटा दिया गया हैं। इनके जगह पर नितिन सिंह को जिले में भेज दिया गया है एव सभी रीडरों की न्यूनतम मजदूरी 10568 रुपये कंपनी द्वारा तय किया गया है जो मिलेगा। वही जितने भी पुराने रीडरों की आईडी बंद है उन लोगो का सोमवार तक आईडी रिलीज कर दी जाएगी एव बिलिंग टारगेट 1500 रूलर में एव 1800 अर्बन में तय कर दी गयी हैं। बाकी जो भी मुद्दे बचे हैं उसको भी एक हफ्ते के अंदर में सुलझा दिया जाएगा। इन सब मुद्दों पर सहमति बनी जिसमे सभी मीटर रीडर अपने अपने काम पर लौट गए। धरने में मुख्य रूप से मरदह सुपरवाइजर शशिकांत भारती, वकील यादव,अश्विनी सिंह,अरविंद राम,तेजस्व राज,सत्यपाल सिंह,राकेश चौबे,मुकेश दुबे,सुजीत उपाध्याय, सुनील यादव,गिरधारी यादव,अभिषेक चौबे,अवधेश प्रसाद,पन्ना लाल,संजय, चंदन,योगेश,सुरेंद्र एव जिले के समस्त मीटर रीडर मौजूद रहे।

Also Read:  गाजीपुर-डीएम व एसपी ने अपने-अपने मातहतों को क्या दिया निर्देश ?