गाजीपुर-मानवता के पुजारी

0
407

गाजीपुर-महिला अस्पताल में भर्ती नवजात शिशु जिसका हीमोग्लोबिन बहुत कम होने के कारण जान पर खतरा बना हुआथा। बच्चे का ब्लड ग्रुप ओ पॉजिटिव था। जिसकी जानकारी हमे कल देर रात्रि बृहस्पतिवार को किसी अंजान व्यक्ति ने फोन पर दिया। इस ग्रुप का ब्लड किसी ब्लडबैंक में उपलब्ध नही था,दुर्भाग्य से एक ऑपरेशन के लिए मैं कल से वाराणसी में था। मेरा ब्लड ग्रुप (ओ.पॉजिटिव) होने पर भी हम ब्लड दान नही कर पाये और बच्चें को ब्लड की अतिआवश्कता थी। फिर मैने फेसबुक पोस्ट करके अपने जानने वाले दोस्तों व अन्य लोगों को सूचित किया। मेरे फेसबुक पोस्ट का संज्ञान में लेते हुए बड़े भाई डॉ.विपिन जयसवाल जी,पत्रकार आशीष राय जी,सुनील कुमार सिंह जी (एडवोकेट), प्रीतम कुमार जी, भाई सन्नी जी, राशिद जी, मंजीत सिंह जी ब्लड डोनेट करने आगे आये पर इसमे से किसी का ब्लड ग्रुप(ओ.पॉजिटिव) नही था। बहुत कोशिशों के बाद मेरे जानने वाले भाई शकील ब्लड दान करने के लिए आगे आए और उसी रात में अपना ब्लड दान करके उस बच्चे की जान बचाये। उसी बीच पत्रकार- सुनील कुमार सिंह जी और एडवोकेट प्रीतम कुमार जी ने ठेकेदार मधुर भैया को सूचित कर दिया। जिनका ब्लड ग्रुप भी ओ.पॉजिटिव था जो ब्लड दान करने के लिए अस्पताल पहुँच रहे थे। जिनको मैने धन्यवाद देते हुए ब्लड दान करने से मना कर दिए, तब तक शकील जी ब्लड डोनेट कर चुके थे। उनको धन्यवाद देते हुए फिर मैं अपने मित्र से वो ब्लड महिला अस्पताल पहुँचवाया। कुछ देर बाद बच्चें के पिताजी ने फोन किया कि डॉक्टर ब्लड नही चढ़ा रहे है तब मैं डॉक्टर से बात किया, डॉक्टर बोले बच्चे की स्थिति बहुत नाजुक है और उल्टी साँस चल रही है। कुछ नार्मल होने पर ब्लड चढ़ाया जाएगा। देर रात ईश्वर की कृपा से बच्चे की स्थिति कुछ ठीक हुई तो ब्लड चढ़ा। अभी आज सुबह में पुनः उस बच्चे के पिता जी से बात हुई है। बच्चा अब पहले से ठीक है ईश्वर बच्चें को पूर्णरुप से स्वस्थ करें। व आप सभी लोगों का बहुत बहुत आभार व धन्यवाद देता हूँ। आप लोग असहाय के लिए आगे आए। ( कुंवर विरेन्द्र सिंह के फेसबुक वाल से ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here