गाजीपुर-यदि उपलब्ध होने के बाद भी किसी ने की शिकायत तो खैर नहीं-डीएम

गाजीपुर 04 मई 2021-कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को देखते हुए जिला प्रशासन पूरी तरह से सक्रिय है। किसी भी मरीज एवं उनके परिजनों को किसी प्रकार की दिक्कतो का सामना न करन पड़े। इस हेतु चिकित्सालयों मे तैनात अधिकारियों द्वारा बराबर निरीक्षण कर भर्ती मरीजो से उनके स्वास्थ्य की
जानकारी लेते हुए उन्हे चिकित्सीय व्यवस्था उपलब्ध करायी जा रही है।
आज जिलाधिकारी एम पी सिंह ने जिला चिकित्सालय का स्थलीय निरीक्षण कर वहां भर्ती हुएॅ कोविड, नान कोविड मरीजो के स्वास्थ्य की जानकारी ली तथा उनके परिजनो से चिकित्सालय में आ रही किसी प्रकार की समस्योे/दिक्कतो के बारे मे पूछा तथा निस्तारण हेतु मुख्य चिकित्साधिकारी एंव मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को आवश्यक दिशा निर्देश दियें।
आज जिलाधिकारी ने पूर्वान्ह 09 बजे से दोपहर 12ः30 बजे तक जिला चिकित्सालय का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होनेे ट्रामा सेन्टर, इमजेंसी
वार्ड, कोरोना वार्ड, आइशोलेसन वार्ड, मेडिकल वार्ड-1, मेडिकल वार्ड-2,सी सी यू वार्ड, महिला वार्ड, बर्न वार्ड तथा चिकित्सालय के प्रत्येक तल,
चिकित्सालय परिसर, वृद्धा वार्ड, एवं बनाये गये अन्य वार्ड जहां मरीज भर्ती हुए है का स्थलीय निरीक्षण कर वहा उपचारित मरीजो एंव उनके परिजनो से उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली आ रही समस्यो को पूछा तथा समाधान हेतु सम्बन्धित चिकित्साधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दियें। उन्होने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया कि मरीजो को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध कराया जाये। आक्सीजन उपलब्ध होने के बावजूद भी अगर किसी
भी मरीज द्वारा शिकायत की गयी तो सम्बन्धित के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी। चिकित्सालय प्रयोग आ रहे प्रत्येक ऑक्सीजन सिलेंण्डर का मेरे द्वारा जानकारी रखी जा रही है। चिकित्सक इसका ध्यान रखे तथा मरीजो को ऑक्सीजन उपलब्ध कराये। जिलाधिकारी ने इमजेंसी वार्ड, एवं कोविड-नान कोविड वार्ड मे भर्ती मरीजो के साथ परिवार के एक से अधिक सदस्य होेने तथा वार्ड में भीड़-भाड़ की स्थिति देखते हुए उन्होने नाराजगी व्यक्त करते हुए लोगो से अपील की कि मरीज के साथ केवल एक ही व्यक्ति सहयोग हेतु रहे अन्यथा आप स्वयं बिमारी की चपेट में आ सकते है। इसलिए सावधानी बरते तथा चिकित्सको एंव स्टाफ नर्स को उनका काम करने दे। जिलाधिकारी ने जिला चिकिसालय में बनाई गयी पुलिस चौकी कक्ष का ताला बंद होने पर नाराजगी व्यक्त की तथा ततकाल पुलिस स्टाफ लगाने का निर्देश दिया। परिसर में इण्टर लॉकिंग व्यवस्था सही कराने, बेतरतीब ढंग से पड़े ईट,मिट्टी के ढेर को ततकाल
हटवाने का निर्देश दिया तथा जिला चिकित्सालय मे पीने के पानी का नल जो लिकेज था उसे एक घण्टे के अन्दर पलंबर बुलाकर सही कराने का निर्देश दिया।
उन्होने मुख्य चिकित्साधिकारी को कहा कि परिसर में केवल एम्बुलेंस की ही पार्किग व्यवस्था रहे अन्य वाहनो को परिसर में खड़ा न करने दिया जाये तथा
बंद पडे़ लिफ्ट मशीन को मैकेनिक बुलाकर सही कराते हुए चालू कराने का निर्देश दिया। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने चिकित्सालय में भर्ती मरीजो संख्या का देखते हुए एन आर सी-1 एन आर सी-2, तथा तृतीय तल पर खाली पड़े हॉल में पर्याप्त व्यवस्था होने पर उसकी साफ-सफाई कराते हुए बेड लगवाकर भर्ती मरीजो के लिए वार्ड बनाने तथा प्रत्येक वार्ड में पर्याप्त चिकित्साकर्मियो की ड्यूटि लगाने का सख्त निर्देश दिया ताकि किसी भी मरीज को शिकायत का मौका न मिले तथा उसे बेहतर ईलाज मिल सके। तत्पश्चात उन्होने जिला चिकित्सालय में स्थापित स्टाल हो रहे ऑक्सीजन प्लांट का
निरीक्षण किया और बताया कि मशीन को ऑपरेट करने वाले संस्था से वार्ता हुई जो कल तक आकर मशीन को आपरेट कर देगे। इस अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी जी सी मौर्या, सी एम एस राजेश सिंह, तहसीलदार मुकेश सिंह, पवन कुमार मीणा
ज्वाईन्ट मजिस्ट्रेट, प्रशिक्षु पी सी एस प्रतिभा मिश्रा आदि लोग उपस्थित थे।

Also Read:  अरे ! यह कैसा मुख्यमंत्री का वादा