गाजीपुर-यह जनपद वीरों की धरती है-डिप्टी सीएम डा०दिनेश शर्मा

गाजीपुर 29 नवम्बर, 2021- मा0 उप मुख्यमंत्री डा0 दिनेश शर्मा ने आज मुहम्मदाबाद मे स्व0 कृष्णानन्द राय जी के पुण्यतिथि पर आयोजित कार्यक्रम मे भाग लिया। कार्यक्रम में उन्होने अष्ट शहीदो एवं स्व0कृष्णानन्द राय के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजली दी एवं दो मिनट का मौन रखा गया। इससे पूर्व उन्होने जनपद के शिक्षा विभाग अधिकारियों संग बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये। उन्होने कहा कि बोर्ड परीक्षाओ को नकलविहीन एंव शान्तिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने हेतु राजकीय, मान्यता प्राप्त, वित्त विहीन विद्यालयो को परीक्षा केन्द्र बनाने का निर्देश दिया।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि ने अपने सम्बोधन में कहा कि आज का उत्तर प्रदेश विकास का पर्याय बन गया है। यह सरकार जाति धर्म पर काम नही करती, यह ऐसी पार्टी है, जो सबको साथ लेकर, सबका साथ सबका विकास चाहती है। गाजीपुर की धरती वीरो की धरती है सबसे ज्यादा कही शहीद होते है वह गाजीपुर की धरती है। यहां के लोग आजादी मे भी बढचढकर हिस्सा लिया था। आतंकी गतिविधियों मे भी गाजीपुर के कई वीर सपूतो ने अपनी कुर्बानी दी है उन सबको श्रद्धान्जली देता हूॅ।

जम्मू काश्मीर मे 70 साल की समस्या सरकार ने समाप्त कर दिया तथा ट्रीपल तलाक एवं सी0ए0ए0 पर कानून बना दिया जिससे मुस्लिम बहनो को जीने की आजादी मिलेगी और उनका जीवन सुखमय होगा। आज गरीबो के खाते मे 1000 रूपये भेजा जा रहा है एवं हर गरीब को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, 6 हजार रूपये किसानो को किसान सम्मान निधि, निःशुल्क गैस कनेक्शन, मुफ्त शौचालय तथा ऋण माफी भाजपा सरकार ने किया है एवं देश मे कोरोना जैसी महामारी मे पूरे देश के नागरिको को मुफ्त वैक्सीन लगाये जा रहे है।

इस गाजीपुर जनपद मे पहले नकल का व्यवसाय था जिसपर माननीय मुख्यमंत्री ने रोक लगाते हुए शिक्षा माफियाओ पर कड़ी कार्यवाही की है।उन्होने कहा कि किसी भी परीक्षाओ को नकल विहीन कराने हेतु सरकार कृत संकल्पित है। आज गेहूं, धान, गन्ना की खरीद सरकार कर रही है जिससे किसानो को उचित मूल्य प्राप्त हो रहा है। उन्होने कहा कि इस जनपद मे पुलों का अभूतपूर्व कार्य हुआ है जो पिछले 40-50 वर्षो मे नही हुआ था। इस जनपद को वाराणसी एवं लखनऊ से जोड़ने हेतु फोर लेन एवं पूर्वान्चल एक्सप्रेस जैसे सड़को का निर्माण किया गया। जनपद में मेडिकल कालेज, स्कूल, लिंक रोड एवं जनपद मे 24 घण्टे विद्युत की व्यवस्था की गयी है। संस्कृतं महाविद्यालयों मे शिक्षको कीे कमी की पूर्ति करने हेतु अवकाश प्राप्त शिक्षको को संविदा के आधार पर नियुक्ति की कार्यवाही की जा रही है। अब तक इस जनपद में 110 लेक्चरर एवं 296 सहायक अध्यापको की नियुक्ति पारदर्शी तरीके से की गयी है।

Play Store से हमारा एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें Find us on Play Store