गाजीपुर-राजा रसगुल्ला महंग होई

0
755

गाजीपुर- मिष्ठान विक्रेताओं में खाद्य सुरक्षा संबधी नये आदेश के बाद सतर्कता बढ़ती नजर आ रहीं है। मिठाई दुकानदार बेस्ट बिफोर डेट की सूची खुली मिठाइयों के तश्तरी के सामने रखने की आदेश को अच्छा चुनौती मान रहे है। खाद्य नियामक फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआई) ने आगामी एक अक्टूबर से सभी मिठाई दुकानदारों को अपने खुले में बिकने वाले मिठाइयों के सामने उसके खराब होने की तारीख लिखने को निर्देशित किया है। हालांकि मिष्ठानों के बनाने की तारीख लिखने के लिए उन्हें बाध्य नही किये जाने से दुकानदारों ने राहत की बात बताई है। मिठाई बनाने वाले कारीगरों का कहना है कि खोआ छेना और बेसन के बूंदी से बनने वाली मिठाईयां कई बार समय बीत जाने के बाद दुबारा नए सामानों के साथ मिलाकर बनाई जाती है। कुछ मिष्ठानों जैसे जलेबी लवंगलता इमरती समोसा खस्ता आदि को एक दिन बाद ही नष्ट करना पड़ता है। इस तरह तैयार मिठाईयां नष्ट की जाने लगेंगी तो मिष्ठानों के दामों में भारी बढ़ोत्तरी हो जाएगी। मिठाई दुकानदारों का कहना है कि हमलोग अपने ग्राहकों को स्वादिष्ठ और पौष्टिक खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने के लिए सुद्धता के हर मानक का पूरा ध्यान रखते है। इस प्रकार मिठाइयों के ट्रे पर तारीखों की स्लिप लगाने की नयी व्यवस्था हमलोगों को ज्यादा परेशान करेगी। खाद्य सुरक्षा अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही सभी दुकानदारों को नई गाइडलाइन दे दी जाएगी। उपभोक्ताओं को सुद्ध और पौष्टिक खाद्य सामग्री उपलब्ध कराना विक्रेताओं का दायित्व बनता है। भोज्य पदार्थों में मानक विपरीत कार्य करने वाले विक्रेताओं को कानूनी दंड झेलना पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here