गाजीपुर-विजय मिश्रा की किस विधानसभा पर नजर

गाजीपुर-वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश में दलबदल का मौसम चल रहा है जिस पुर्व या वर्तमान विधायक को जिस राजनैतिक दल मे अपना बेहतर भविष्य दिखाई दे रहा है वहां दल बदल कर उसे पहुंचते दे नहीं लग रही है। पुराने राजनीतिक दल से किनारा करते ही उसमें तमाम बुराइयां नजर आने लग रही है। गाजीपुर जनपद में समाजवादी पार्टी के सिम्बल पर दो बार सैदपुर सुरक्षित सीट से विधायक बनने वाले सुभाष पासी ने कहा कि मेरे उद्देश्य की पूर्ति नहीं हो पा रही थी।

वर्ष 2012 में बहुजन समाज पार्टी के जमानियां से पुर्व विधायक व गाजीपुर सदर से प्रत्याशी डॉक्टर राजकुमार सिंह गौतम को 242 मतों से पराजित कर सदर विधानसभा से विधायक बनने वाले विजय मिश्रा जी पर भाग्य मेहरबान हुई और पहली बार ही विधायक बनने के साथ-साथ राज्यमंत्री का पद भी पा गए।वर्ष 20 17 में माननीय विजय मिश्रा जी को समाजवादी पार्टी ने टिकट नहीं दिया और वह चुनाव नहीं लड़ पाए।इसके बाद पार्टी के व्यवहार से दुखी व खिन्न विजय मिश्रा ने बहुजन समाज पार्टी का दामन थाम लिया। काफी दिनों तक बहुजन समाज पार्टी में सदर विधान से अपनी दावेदारी का मजबूत दावा करने वाले पुर्व धर्मार्थ कार्य मंत्री विजय मिश्रा ने 2022 के विधानसभा चुनाव से पूर्व भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली।

Also Read:  गाजीपुर-डीएम व एसपी ने किया चक्रमण, लोगों से किया अनुरोध

पूर्व धर्मार्थ मंत्री ने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने के साथ ही निश्चित तौर से विधानसभा टिकट की भी डिमांड किया होगा। पार्टी ने उनको क्या आश्वासन दिया यह तो वही जाने लेकिन उनके तमाम समर्थक उनके विधानसभा का चुनाव लड़ने की उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी से सदर विधानसभा से सहकारिता राज्यमंत्री डॉक्टर संगीता बलवंत का टिकट कटना तो नामुमकिन है। ऐसी परिस्थिति में विजय मिश्रा किस विधानसभा से लड़ सकते हैं इस पर गहन चिंतन करने के बाद जो बातें निकल कर सामने आयी है।

Also Read:  गाजीपुर-अज्ञात महिला का शव मिलने से सनसनी-गाजीपुर टुड़े

तमाम राजनैतिक पंडितों ने हमसे हुई बातचीत में जो बताया उसके अनुसार विजय मिश्रा जमानिया जा नहीं सकते हैं क्योंकि वहां भारतीय जनता पार्टी की सिटिंग विधायक सुनीता सिंह दोबारा मजबूती से अपना दाव पेश कर रही है। मोहम्मदाबाद की तरफ विजय मिश्र देख नहीं कर सकते हैं क्योंकि मुहम्मदाबाद विधानसभा की सीट एक तरह से स्व० कृष्णानंद राय के परिवार की सीट मानी जाती है। जहुराबाद भी विजय मिश्रा नहीं सकते हैं।सैदपुर और जखनिया दोनों सुरक्षित सीटें हैं वहां जाने की कोई संभावना नहीं है।

Also Read:  अम्बेडकर-समाजवादी समय आने पर बुल्डोजर व लैपटॉप भी चला सकते है-अखिलेश

ले देकर मात्र जंगीपुर की सीट ही अभी तक खाली दिखाई दे रही है।वैसे जंगीपुर सीट से भी भाजपा मे कई मजबूत दावेदार पहले से ही मौजूद है।विजय मिश्रा के समर्थकों के अनुसार जंगीपुर से भारतीय जनता पार्टी के संभावित उम्मीदवार हो सकते हैं। भविष्य में भारतीय जनता पार्टी विजय मिश्र को विधानसभा का टिकट देगी या नहीं देगी,यह तो पार्टी जाने लेकिन उनके समर्थकों की आशा आसमान छू रही हैं।