गाजीपुर- विधायक को दिखा गजबै हाल

गाजीपुर- विधायक सुभाष पासी ने सोमवार को सैदपुर नगर के सीएचसी व महिला अस्पताल का अचानक दौरा किया। इस दौरान महिला अस्पताल में जहां उन्हें भारी खामियां मिलीं, वहीं सीएचसी में ऑक्सीजन प्लांट के निर्माण में बेहद धांधली मिली। जिसके बाद उन्होंने मौके से जिलाधिकारी व सीएमओ को फोन कर शिकायत करते हुए इसे दुरूस्त कराने की मांग की। अस्पताल में कर्मियों को चेतावनी दिया कि अगर मानक के अनुरूप काम नहीं हुआ तो वो जिम्मेदारों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराने से पीछे नहीं हटेंगे। वहीं महिला अस्पताल को अक्षर फाउंडेशन की अध्यक्ष व विधायक की पत्नी रीना सुभाष पासी ने गोद लेकर वहां सुविधाएं उपलब्ध कराने का भरोसा दिया। सोमवार को विधायक सुभाष पासी अपनी पत्नी रीना सुभाष पासी के साथ मुख्य बाजार में बने शासनिक व प्रशासनिक तौर पर उपेक्षित पड़े महिला अस्पताल का निरीक्षण किया। इस दौरान पूरा अस्पताल परिसर जैसे खामियों के भंडार पर स्थापित किया गया हो। एक तरफ जहां जिम्मेदारों की वजह से अस्पताल में कमियां थीं तो दूसरी तरफ वहां तैनात कर्मियों द्वारा भी अव्यवस्था में कमी नहीं छोड़ी थी। निरीक्षण में पूरा भवन जर्जर मिला, कर्मचारियों के आवास जर्जर मिले। इसके अलावा अंदर घुसने पर कक्ष भी जर्जर मिला। कर्मचारियों की लापरवाही इस कदर दिखी कि वहां से निकलने वो खतरनाक मेडिकल कचरे को प्रसूता कक्ष से महज 30 फीट की दूरी पर परिसर में ही बने एक निष्प्रयोज्य कमरे में फेंक दिया जाता है। अंदर शौचालय बंद मिले। कक्ष में वायरिंग तक नहीं थे, बिजली की व्यवस्था नहीं थी। 6 बेड के अस्पताल में सभी 6 बेड खराब पड़े थे। जिस पर रीना सुभाष पासी ने भरोसा दिया कि वो यहां पर नए बेड भिजवाने के साथ ही पूरे अस्पताल में वायरिंग कराएंगी। निरीक्षण में अस्पताल में लगा ओवरहेड टैंक भी बेहद जर्जर व खतरनाक ढंग से अटका हुआ दिखा, जो कभी भी गिरकर धराशायी हो सकता है। वहां पूरे अस्पताल की जिम्मेदारी भी एक ही चिकित्सक के कंधों पर दिखी। वहां दो चिकित्सकों की तैनाती थी, जिसमें एक चिकित्सक को यहां के अलावा पूरे जिले में मेडिको लीगल का काम दिया गया है। जिसके चलते उनकी उपस्थिति यहां हमेशा संभव नहीं हो पाती। कई खामियां मिलने पर विधायक ने वहां मौजूद कर्मचारी से कहा कि वो उन्हें पूरी समस्या व जरूरत की चीजों को लिखकर दें। बताया कि अक्षर फाउंडेशन की अध्यक्ष रीना सुभाष पासी द्वारा अब अस्पताल को गोद लिया जा रहा है और इसके बाद अस्पताल में मौजूद कमियों को दूर कराया जाएगा। इसके बाद उन्होंने मौके से सीएमओ से वार्ता कर पूरी बात बताई। इसके बाद वो सीएचसी पहुंचे। वहां विधायक निधि से बन रहे ऑक्सीजन प्लांट के निरीक्षण के दौरान सफेद बालू के प्रयोग के साथ ही बेहद घटिया क्वालिटी की गिट्टी प्रयोग की जा रही थी। जिस पर विधायक ने कहा कि इस कार्य के लिए 40 लाख की जगह 60 लाख रूपए निर्गत कराए गए हैं। ऐसे में निर्माण कार्य में किसी भी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा। कार्य में अगर किसी तरह की कमी मिली तो सभी जिम्मेदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। इसके बाद उन्होंने वहीं से डीएम को फोन कर महिला अस्पताल व सीएचसी की शिकायत की। जिस पर डीएम ने कार्रवाई की बात कही। इसके बाद विधायक ने मरीजों से मिलकर उनका हाल जानने के साथ ही किसी तरह की समस्याओं के बाबत पूछा। वहां से एक्सरे कक्ष में पहुंचे और मशीनों के बाबत जानकारी ली। वहां से वो टीकाकरण कक्ष में पहुंचे और लोगों से पूछा। इसके बाद ऑसीजन प्लांट व अन्य सुविधाओं के बाबत निर्देश देकर रवाना हो गए। इस मौके पर एसीएमओ डॉ. एके वर्मा, अधीक्षक संजीव सिंह, विधायक प्रतिनिधि आशु दुबे, सुनील यादव, विनोद राय, धनंजय यादव, मोती पासी, रामकुंवर कमलापुरी आदि रहे।

Also Read:  गाजीपुर-राहत कार्यों में भी सभासद कर रहे है राजनीति