गाजीपुर-विधायक जी नाराज हो गयीं

गाजीपुर-जमानिया तहसील प्रांगण में रामलीला समिति के अध्यक्ष सहित कुल 14 लोगों की जमानत के लिए शनिवार की शाम बड़ी संख्या में लोग पहुंचे ,लेकिन उनके नारेबाजी ने बात को बिगाड़ दिया। जमानिया तहसील परिसर में गरीब महिलाओं में कंबल वितरण के बाद विधायक जब जमानत कराने पहुंची तो विधायक के सामने ही प्रशासन के खिलाफ लोग नारेबाजी करने लगे। विधायक के बार-बार मना करने के बाद भी जब लोग चुप नहीं हुए तो वह नाराज होकर तहसील परिसर से चली गई और बंद लोगों की जमानत नहीं हो सकी।

Also Read:  गाजीपुर-कोरोना संक्रमण की ताजा अपडेट

निजी जमीन पर चबूतरा बनाने के विरोध में धरने पर बैठे मनोनीत सभासद जयप्रकाश गुप्ता गुरुवार कोतवाली में अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठे थे. इससे नाराज होकर एसडीएम भारत भार्गव ने शांति भंग की आशंका को देखते हुए 14 लोगों को जेल भेज दिया वही धरना पर बैठे 36 लोगों को चेतावनी देते हुए छोड़ दिया था। शांति भंग के आरोप में जेल में बंद लोगों की जमानत के लिए परिजन सहित जमानतदार एसडीएम के न्यायालय में पहुंचे थे लेकिन उस समय संपूर्ण समाधान दिवस चल रहा था इस कारण लोगों की एसडीएम से उनकी मुलाकात नहीं हो पाई।

Also Read:  गाजीपुर- पल्स पोलियो अभियान की सफलता के लिए बैठक सम्पन्न

शाम को जमानिया विधायक सुनीता सिंह गरीबों में कंबल वितरण के लिए पहुंची थी। इसके बाद वह जमानत हेतू तहसील पहुंची। जहां विधायक को देख पहले से जमानत के लिए जुटे लोग तुरंत जोर-जोर से प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी है।इस पर विधायक ने में चुप कराने का काफी प्रयास किया लेकिन फिर भी वह लोग नारेबाजी से बाज नहीं आ रहे थे। इस पर विधायक ने अपने प्रति नाराजगी जताते हुए विरोध का तरीका समझा और तहसील से चली गई ।मनोनीत सभासद जयप्रकाश गुप्ता सहित 14 लोगों को जेल भेज दिया गया और किसी की जमानत नहीं हो सकी।

Also Read:  गाजीपुर-सेवानिवृत्त कर्मचारियों को दिया गया विदाई