गाजीपुर-विश्वविद्यालय की स्थापना हेतू छात्रों ने लिखा सीएम को खुन से पाती

गाजीपुर-आज गाजीपुर में विश्वविद्यालय स्थापना को लेकर सरजू पाण्डेय पार्क में छात्रों ने खून से लिखा मुख्यमंत्री के नाम संबोधित पत्रक को जिलाधिकारी के माध्यम से भेजा। विश्वविद्यालय स्थापना को लेकर छात्र कई वर्षों से लगातार पत्रक व धरना तथा ट्विटर पर ट्रेंड कराकर सरकार का ध्यान गाजीपुर कि तरफ पड़ाने का पूरा प्रयास किये,इसी क्रम में कोई ठोस पहल न होने से छात्रों ने अपने विश्वविद्यालय स्थापना की मांग की तरफ सरकार का ध्यान आकर्षित कराने के लिए अपने खून से लिखा पत्र सरकार को भेजा। पूर्व छात्र संघ उपाध्यक्ष दीपक उपाध्याय ने बताया कि गाजीपुर जनपद की भूगौलिक पृष्ठभूमि 75 फीसदी ग्रामीण है कम आय वर्ग की जनता निवास करती हैं यहां उच्च शिक्षा का अभाव है, विश्वविद्यालय स्थापना के सभी मानक पूर्ण करने के बावजूद आज तक गाजीपुर जनपद विश्वविद्यालय विहीन है और हम सभी को उच्च शिक्षा ग्रहण करने का पूरा अधिकार है इस वजह से आज छात्रों ने खून से लिखा पत्र सरकार को भेजने का काम किये है, ताकि सरकार शीघ्र विश्वविद्यालय को लेकर घोषणा करें, जिला पंचायत सदस्य गोविन्द यादव ने कहा कि छात्र वर्षों से यह मांग उठा रहे हैं लेकिन सरकार का ध्यान गाजीपुर जनपद की तरफ नहीं पड़ रहा इस वजह से मजबूरन छात्रों को खून से लिखा पत्र सरकार को भेजना पड़ा रहा, महामंत्री प्रवीण विश्वकर्मा ने कहा कि विश्वविद्यालय कि मांग जल्द से जल्द पूर्ण नहीं की जाती है तो जनसमर्थन से छात्र उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे तथा सभी छात्रों ने एक स्वर में कहा कि सरकार शीघ्र विश्वविद्यालय की मांग पूर्ण नहीं करती हैं तो विश्वविद्यालय स्थापना की मांग पूर्ण कराने तक छात्र अब धरना प्रदर्शन पर बैठने को बाध्य होंगे, पत्रक सौंपने वालों में जिला पंचायत सदस्य गोविन्द यादव,पूर्व छात्र संघ उपाध्यक्ष दीपक उपाध्याय, महामंत्री प्रवीण विश्वकर्मा, रघुराज प्रताप सिंह, अभिषेक कुमार गौड़, शैलेश यादव, अमन कश्यप, अरुण कुमार ,ओजस्वी साहू, अनिल कुमार, दीपक कुमार, हेमंत श्रीवास्तव, निखिल राज भारती, आकाश विश्वकर्मा, रणविजय प्रताप, मोहन रावत, राजदीप रावत, दीपक यादव, शशांक सिंह, विशाल चौधरी, चमचम चौबे, अवनीश प्रताप सिंह, अभिनव सिंह, सौरभ खरवार ,कुश इत्यादि सैकड़ों छात्र मौजूद थे।

Also Read:  गाजीपुर- डीडीओ के निलंबन पर कर्मचारियों का एक वर्ग खुश