गाजीपुर-वैक्सीनेशन में गाइडलाइन तार-तार

गाजीपुर-कोविड-19 टीकाकरण हेतु अब गावों के लोग स्वतः बाहर निकलने लगे है।वैक्सीन की कमी की वजह से कई दिनों से वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी पड़ गयी थी।लेकिन अब गांवो के प्राथमिक विद्यालयों पर पर कैंम्प लगाकर हो रहे वैक्शीनेशन में लोगों की भीड उमड़ रही है।बिना किसी प्रकार की सोशल डिस्टेंसिग का पालन किये और बिना मास्क लगाये टीकाकरण का कार्य चल रहा।सोमवार को प्राथमिक विद्यालय खानपुर रघुबर राय जखनियां में हो रहे टीकाकरण कैम्प में बिना मास्क और बगैर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किये स्वास्थ्य टीम के सदस्य भी थे। इनकी लापरवाही पूरे विभाग के लिये प्रश्नचिन्ह है।टीकाकरण कैंपो की जाच के लिये स्वास्थ विभाग की तरफ से जांच टीम भी लगाई गई है।लेकिन जब विभाग अपने कर्मियों से ही कोविड नियमों का पालन करवा पा रहा है तो आम जन मानस से कैसे पालन करायेगा।यहां सब भगवान भरोसे है।इस महामारी से बचने के लिए एक प्रचलित स्लोगन हर जगह देखने और पढ़ने को मिलता है ‘दो गज की दूरी मास्क है जरूरी’।लेकिन यहां टेबल पर बैठे साहब को अपने जान की भी परवाह नही है।तो दूसरो को क्या सोशल डिस्टैंसिंग का पाठ पढायेगे। स्वास्थ्य विभाग ऑफ डब्ल्यूएचओ की गाइड लाइन के अनुसार इस महामारी से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग,मास्क का प्रयोग और सैनिटाइजेशन सबसे बेहतर उपाय है।

Also Read:  गाजीपुर-पुर्वांचल एक्सप्रेस वें के किनारे बने गड्ढे ने लिया जान