गाजीपुर-शराब पीने व बेचने वाले की कैद होगी तस्वीर

गाजीपुर- जहरीली एवं अवैध शराब के बिक्री पर रोकथाम लगाने के लिए आबकारी विभाग शराब बिक्री की व्यवस्था में अभूतपूर्व बदलाव की तैयारी कर रहा है। इंटरनेट कनेक्टिविटी सुलभ होते ही आबकारी की दुकानों पर पीओएस मशीनों के जरिये शराब की बिक्री की जाएगी। उपभोक्ताओं के एक बोतल शराब की खरीद पर उस बोतल पर बार कोड स्कैनर होगा, जिसे दुकानदार पीओएस मशीन से स्कैन करेगा। स्कैन के बाद प्रिंटर से एक बिल निकलेगा। इस बिल में शराब के निर्माण स्थल, सरकारी गोदाम से आवंटन का विवरण, फुटकर विक्रेता आदि की जानकारी होगी। बिना स्कैन बिक्री करने पर शराब के स्टॉक या बिक्री का मिलान गड़बड़ हो जाएगा। ऐसे में दुकानदार का लाइसेंस निरस्त भी किया जा सकता है। पीओएस मशीन के जरिये शराब की बिक्री कराने के लिए सभी दुकानदारों को सूचित करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। आबकारी निरीक्षण वीर अभिमन्यु ने बताया कि अवैध नकली या अपमिश्रित शराब बिक्री पर पूरी तरह रोक लगाने के लिए आबकारी विभाग द्वारा कई बड़े कदम उठाये जा रहे है। अभी गोदामों पर क्रॉस चेकिंग किया जा रहा है। भविष्य में सभी देशी अंग्रेजी एवं बियर के दुकानों पर सीसीटीवी कैमरे, ऑनलाइन स्टॉक रजिस्टर के साथ पीओएस मशीन से शराब बिक्री की योजना है। जिससे शराब बंदी के दिनों में चोरी छिपे शराब की बिक्री नही हो सकेगी और दुकानदार तय मूल्य से अधिक नहीं वसूल सकेगा। एक दुकान का कोटा दूसरी दुकान पर बिकने से रोकथाम के अलावा शुद्धता की भी गारंटी होगी,निर्धारित तिथि के बाद नहीं बिक सकेगी शराब जिससे नकली शराब की बिक्री पर पूरी तरह अंकुश लग जाएगा।