गाजीपुर-सपना की जय हो,विशाल हुए दोनों चंचल

गाजीपुर- लगातार ढाई दशक तक गाजीपुर जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों का कब्जा रहा।आज 3 जुलाई 2021 को समाजवादी पार्टी का ढाई दशक का कब्जा भारतीय जनता पार्टी ने ध्वस्त कर दिया। जिला पंचायत चेयरमैन की कुर्सी पर दोनों राजनीतिक दल अपने अपने उम्मीदवार को बैठाना चाहते थे ,सपा और भाजपा के इस जंग में भारतीय जनता पार्टी समर्थित उम्मीदवार सपना सिंह अन्ततः विजय श्री मिल ही गई।आज हुए मतदान मे 67 वोट मे सपना सिंह को 47 मत तथा उनकी प्रतिद्वंद्वी और सपा उम्मीदवार कुसुमलता यादव को 20 मत प्राप्त हुआ।जिला पंचायत गाजीपुर का चेयरमैन बनाने के लिए पूरी भारतीय जनता पार्टी विशेषकर एमएलसी विशाल सिंह चंचल तथा उनकी पुरी टीम ने रात दिन मेहनत किया। भारतीय जनता पार्टी के एक धडे ने प्रारंभ में निर्दल जिला पंचायत सदस्य सपना सिंह का भाजपा का उम्मीदवार बनने का खुलकर अंदर खाने विरोध किया था लेकिन एमएलसी विशाल सिंह चंचल की रणनीति में सारे विरोधियों के विरोध को ध्वस्त करते हुए सपना सिंह को भारतीय जनता पार्टी समर्थित चेयरमैन का उम्मीदवार बनवा दिया।गाजीपुर की राजनीति से कोसों दुर रहने वाले विशाल सिंह चंचल ने महामहिम मनोज सिन्हा और पुर्व भाजपा नेता अरूण सिंह के रिक्त स्थान को बखूबी पुर्ण कर दिया है।वैसे इस बार दोनों भाईयों डाक्टर मुकेश सिंह और पंकज सिंह चंचल को जीद थी कि पैसा चाहे जितना खर्च होता है हो जाये लेकिन चेयरमैन का पद लेकर रहेगें।अन्ततः दोनों भाईयों की जीद को पुरा कराने के लिए एमएलसी विशाल सिह चंचल ने बखूबी महाभारत के कृष्ण की भूमिका को निभाया।सपना सिंह के विजय से विशाल सिंह का कद भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नजर मे काफी उंचा हो गया है।इस पराजय से पहले ही समाजवादी पार्टी मे काफी आरोप प्रत्यारोप एक दुशरे पर लगने शुरू हो गये थे।भाजपा की समर्पित जिला पंचायत सदस्य और चेयरमैन पद की दावेदार डा०बन्दना यादव ने मतदान के बाद कहा कि उन्होंने सपना सिंह को मतदान नहीं किया है उन्होंने भाजपा को चेयरमैन के चुनाव मे मतदान किया है।

Also Read:  गाजीपुर-खचाखच भरे मेले में मनबढों ने युवक को गोली मारा