गाजीपुर-सरकार कारपोरेट की कठपुतली बन गयी है-कमलेश सिंह

गाजीपुर- केंद्र सरकार सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण के लिए संसद के मौजूदा सत्र मे बैंक राष्ट्रीय करण कानून मे संसोधन हेतू प्रस्ताव लेकर आ रही है। जिसके मुताबिक सरकार दो बैंकों में अपनी 51 फीसदी हिस्सेदारी बेच सकती है। बैंक को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी कर रही है। सरकार के इस कदम के विरोध में यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियन के आवाहन पर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के अधिकारी एवं कर्मचारी 16 व 17 दिसंबर् को दो दिवसीय हड़ताल पर है।

जनपद के यूनियन बैंक आफ इंडिया के क्षेत्रीय कार्यालय महुआबाग पर अधिकारीयों और कर्मचारियों की यूनियनों ने प्रदर्शन किया तथा सरकार से निजी करण की घोषणा को वापस लेने की मांग की। हड़ताल के दौरान विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की 300 से ज्यादा शाखाओं में ताले लटके रहे तथा 200 करोड़ से ज्यादा का कारोबार प्रभावित हुआ। अधिकतर ए टी एम मे भी नगदी खत्म हो गयी है।

Also Read:  पुलिसकर्मियों पर ग्रामीणों द्वारा पथराव

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए यूनियन बैंक स्टाफ एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के प्रांतीय सहायक महामंत्री संतोष कुमार यादव ने सरकार से सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजी करण के प्रस्ताव को तत्काल वापस लेने की मांग की। कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं, इनके निजी करण से देश का आर्थिक और सामरिक ढांचा चरमरा जाएगा तथा अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने आम जनमानस की आशाओं एवं अपेक्षाओं के अनुरूप कार्य किया है तथा सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में भी बैंकिंग सुविधाओं को मुहैया कराया है। इनके निजी करण से बैंकिंग सेवाएं आम जनमानस के पहुंच से बाहर हो जाएंगे।

Also Read:  गाजीपुर-रहस्यमय आत्महत्या

उन्होंने प्रस्तावित बैंक राष्ट्रीय करण कानून मे संसोधन प्रस्ताव को तत्काल वापस लेने की मांग की। अधिकारी संघ के सचिव सत्यम ने निजी करण को आम जन मानस के खिलाफ बताया तथा प्रस्तावित संसोधन को तत्काल प्रभाव से वापस लेने को कहा। जिला मंत्री कमलेश सिंह ने कहा कि आज के समय में सरकार कारपोरेट की कठपुतली बन कर रह गई है। इस मौके पर आजम, तौकीर खान, शंकर राय, किसून देव सिंह ,अशोक सिंह, राज कपूर, अंकित,कैलाश रावत, राम अवध, सुभाष राय, जितेंद्र, राहुल, अविनाश, अरुण,साकेत, अभिनव, सत्येंद्र कुशवाहा ,शैलेंद्र सिंह ,राजेश यादव, मनीष प्रताप, विकास श्रीवास्तव, गरिमा ,मनीषा ,आलोक ,तेज नारायण सिंह, दीपक, अमिताभ श्रीवास्तव ,संजय कुमार, विनोद प्रधान ,पंकज, रजनीश, राकेश सिंह ,अमित गुप्ता, अभिषेक, आनंद ,राजेश, राजीव, हीरा प्रसाद ,राज नारायण यादव सहित सैकड़ों बैंक कर्मचारी धरना प्रदर्शन में मौजूद थे।

Also Read:  प्रेमी की बेवफाई या ब्लैकमेलर तो नहीं आत्महत्या का कारण