गाजीपुर- सौ करोड़ का लक्ष्य और एक सौ तीन करोड़ स्वीकृत

गाजीपुर 11 अगस्त 2021 – एसएलबीसी एवं राज्य सरकार के निर्देसानुसार जनपद गाजीपुर में प्रवासियों एवं स्थानीय लोगों को स्वरोजगार प्रदान करने हेतु एवं जनपद के ऋण जमानुपात में वृद्धि हेतु मेगा क्रेडिट कैंप का आयोजन दिनांक 11-08-2021 को लंका मैदान में किया गया। इस कार्यक्रम मे सदर विधायक डा० संगीता बलवंत जी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रही एवं यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के क्षेत्र प्रमुख श्री कमलेश प्रसाद सिंह, उप क्षेत्र प्रमुख श्री इश्तियाक अरशद, अग्रणी जिला प्रबन्धक श्री सूरजकांत एवं सभी बैंको के जिला समन्वयक भी उपस्थित रहे।
                     एसएलबीसी ने गाजीपुर जनपद में लोन वितरण के लिए 100 करोड़ का लक्ष्य रखा था जिसके सापेक्ष 103 करोड़ के लोन जनपद के बैंको द्वारा स्वीकृत किए गए , जिसमे कृषि मे 21 करोड़, खुदरा मे 33 करोड़, एमएसएमई मे 22 करोड़ एवं अन्य मे 27 करोड़ के लोन स्वीकृत हुए। कार्यक्रम की शुरुवात मे अग्रणी जिला प्रबन्धक श्री सूरजकांत जी ने सभी अतिथियों का स्वागत किया एवं मेले के आयोजन का औचित्य सबके सम्मुख रखते हुए बैंक से संबन्धित विभिन्न आंकड़े प्रस्तुत किए। इस अवसर पर माननीय विधायक श्रीमती संगीता बलवंत ने कहा की लक्ष्य को प्राप्त करने में बैंकों का प्रयास उल्लेखनीय है,विशेषकर अग्रणी बैंक के रूप में यूनियन बैंक की भूमिका सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। उन्होने यूनियन बैंक का उल्लेख करते हुए कहा कि जिले में विकास का यह महत्वपूर्ण स्तम्भ है।
                    यूनियन बैंक के क्षेत्र प्रमुख श्री कमलेश प्रसाद सिंह ने ऋण लाभार्थियो को बधाई देते हुए कहा कि ये ऋण आपके स्वरोजगार सृजन का एक माध्यम है जिससे आपके जीवनस्तर मे सुधार होगा। उन्होने जनपद के जमा-ऋण अनुपात पे चिंता व्यक्त कि एवं सभी बैंको के प्रतिनिधियों से आह्वान किया कि इसमे सुधार के लिए जरूरी कदम उठाए जाएँ। उन्होने ऋणधारको से समय पे ऋण अदायगी कि भी अपील की। इस अवसर पर यूनियन बैंक के उप क्षेत्र प्रमुख श्री इश्तियाक अरशद जी ने कहा कि जिस राज्य मे ऋण-जमा अनुपात बेहतर होता है वो राज्य उन्नति करता है। उन्होने बताया की बैंक जिले के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है हालांकि इसमे सुधार एवं विस्तार की काफी समभावनाए हैं। उन्होने बताया की हमारी विभिन्न ऋण योजनाओ का लाभ उठाकर ऋणधारक स्वरोजगार एवं रोजगार उत्पादन मे योगदान कर सकते है। आयोजन मे समस्त बैंको के ऋणियों द्वारा प्रतिभाग किया गया एवं उन्हे उपहार स्वरूप ऋण स्वीकृति पत्र और एक- एक पौधा प्रदान किया गया। कार्यक्रम के अंत में अग्रणी जिला प्रबन्धक द्वारा धन्यवाद ज्ञापित करते हुए मेले को समाप्त घोषित किया।