गाजीपुर-स्व०तेजू सिंह को द्रोणाचार्य पुरस्कार देनें की माँग

गाजीपुर- स्वर्गीय श्री तेज बहादुर सिंह का एक शिष्य ललित कुमार उपाध्याय ने टोक्यो ओलंपिक जाने वाली भारतीय टीम में चयनित हो कर पूरे पूर्वांचल और उत्तर प्रदेश का सम्मान बढ़ाया। पूरा क्षेत्र ही नहीं आज पूरा प्रदेश को आज तेजू भैया के इस शिष्य ने गौरवान्वित किया है।

ललित ने करमपुर के मैदान से ही ओलंपिक तक जाने का सफर तय किया। आज तेजू भैया का एक और सपना साकार होने के करीब है जब यह मैदान एक विश्वविजेता हॉकी ओलंपियन देगा। उनका एक और होनहार अंतरराष्ट्रीय शिष्य राज कुमार पाल का चयन ओलंपिक के लिए ना होना दुखद है परंतु उसकी अद्वितीय प्रतिभा एक दिन जरूर पूरे पूर्वांचल एवम भारत का नाम रोशन करेगी।

स्वर्गीय श्री तेज बहादुर सिंह ने 30.04.2021 को कोरोना से संक्रमित होने के उपरांत अपनी आखिरी सांसें ली और इस गांव और देश के लिए कुछ अधूरे सपने जैसे भारतीय हॉकी टीम को फिर से विश्वविजेता बनाने का सपना छोड़ गए जो आज पूरी करने की हम सब की ज़िम्मेदारी है। तेजू भैया ने सारे सपने देश के लिए और गरीबों के लिए देखे और उन्हें अपने अथक प्रयासों से साकार किया। कभी भी उन्होंने कोई सपना अपने लिए नहीं देखा। आज एक मौका है जब हम उनके लिए एक सपना देखे। अपने गुरु को राष्ट्रीय स्तर पे उचित सम्मान और ख्याति दिलाए। आज वक्त है की एक कोशिश की जाए के जिस गुरु ने अपने शिष्यों से कभी एक कतरा नहीं लिया उसे आज गुरुदक्षिणा स्वरूपी श्रद्धांजलि अर्पित की जाए। आज वक्त है की स्वर्गीय श्री तेज बहादुर सिंह उर्फ तेजू भैया को द्रोणाचार्य सम्मान दिलाया जाए। आइए आज से स्वर्गीय श्री तेज बहादुर सिंह जी को द्रोणाचार्य पुरस्कार दिलाने के सफर की शुरुआत करते हैं। (पुर्व सांसद राधेमोहन सिंह के फेसबुक पेंज से)💐स्व०तेजू सिंह को द्रोणाचार्य पुरस्कार दिलाने में मदद करना चाहते है तो खबर अधिक से अधिक शेयर करें💐