गाजीपुर-होटल मालिक, पुत्र व पत्नी के खिलाफ गैरजमानती वारंट

गाजीपुर-आशा जयसवाल पुत्री किशोरी लाल जयसवाल निवासी भंडसर थाना विरनो की शादी 27 नवंबर 2012 को आशुतोष जयसवाल पुत्र उदय प्रताप जायसवाल निवासी भूतहियाटांड प्रकाश नगर गाजीपुर से हुई। 5 जून 2021 को संदिग्ध परिस्थितियों मे विवाहिता आशा जयसवाल का शव फांसी के फंदे पर लटकते हुए मिला। विवाहिता आशा जयसवाल के परिजनों ने आशुतोष जायसवाल व उनके परिवार के लोगों पर दहेज हत्या का आरोप लगाते हुए सदर कोतवाली में तहरीर दिया। मृतक आशा जयसवाल के भाई बबलू जायसवाल की तहरीर पर पुलिस ने आशुतोष जायसवाल पुत्र उदय प्रताप जायसवाल को तत्काल गिरफ्तार कर लिया ,लेकिन आशा जयसवाल के ससुर उदय प्रताप जायसवाल, सास सुधा जयसवाल तथा देवर अश्विनी जयसवाल मौके से फरार हो गए। फरार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए समाजसेवी बोधा जयसवाल तथा आशा के भाई बबलू जयसवाल ने कई बार सरजू पान्डेय पार्क मे धरना-प्रदर्शन व आमरण अनशन तक किया। हर बार पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने शीघ्र ही गिरफ्तारी का आश्वासन देकर धरना-प्रदर्शन स्थगित कराने से लेकर अनशन को तुडवा दिया लेकिन फरार तीनों आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई। इसके पश्चात पीड़ित पक्ष नवागत पुलिस कप्तान राम बदन सिंह से मिलकर न्याय की गुहार लगया। पुलिस अधीक्षक ने जब इस मामले में संबंधित प्रगति पुलिस अधिकारियों से जानना चाहा तो प्रगति असंतोष जनक पाया।उन्होंने तत्काल इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया। पुलिस अधीक्षक के कड़े तेवर को देखते हुए सक्रिय हुई कोतवाली पुलिस ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में प्रार्थना पत्र देकर फरार अभियुक्तों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने का अनुरोध किया। कोतवाली पुलिस के अनुरोध को स्वीकार करते हुए मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने सुधा जयसवाल पत्नी उदय प्रताप जायसवाल, अश्वनी जायसवाल पुत्र उदय प्रताप जायसवाल, उदय प्रताप जायसवाल पुत्र स्वर्गीय योगेंद्र नाथ जायसवाल (होटल मधुर तरंग के मालिक) निवासी प्रकाशनगर ,भुतहियाटांड थाना कोतवाली गाजीपुर के विरुद्ध दिनांक 23/11/2021 को गैर जमानती वारंटी जारी कर दिया।

Also Read:  गाजीपुर-अब मुख्तार अंसारी के जगह भीम राजभर होगें प्रत्याशी