गुडिया हत्याकांड का खुलासा, निठल्ला आशिक गिरफ्तार

गाजीपुर- तियरी (जमानियाँ) गांव में किशोरी गुड़िया(17) की हत्या की वारदात को सिरफिरे आशिक ने अंजाम दिया था। शुक्रवार की सुबह दरौली स्टेशन पर यह सिरफिरा आशिक सचिन राजभर पुलिस के हाथ लग ही गया। वह भी तियरी गांव का ही रहने वाला है। पूछताछ में उसने अपना जूर्म भी कबूल लिया। बताया कि गुड़िया के पीछे वह एक साल से पड़ा था। उसके स्कूल जाते-आते रास्ते में वह पीछा करता था। आखिर में वह अपने मकसद में कुछ हद तक कामयाब हो गया। फोन पर रोज उसकी बातें होने लगीं लेकिन कुछ ही दिनों बाद गुड़िया उससे बातचीत बंद कर दी। यहां तक कि वह अपने मोबाइल फोन पर उसका नंबर लॉक कर दी। किसी तरह वह गुड़िया से वह संपर्क किया। तब गुड़िया ने साफ शब्दों में कह दिया कि वह उससे कोई संबंध नहीं रखना चाहती। गुड़िया के इस दो टूक जवाब से सचिन एकदम से तिलमिला गया और तय किया कि वह उसको सबक सिखाएगा। इसके लिए प्लान बनाया। बीते 31 जुलाई को गुड़िया अपने डेरे से शौच के लिए निकली। उसके पीछे सचिन भी हो लिया। इस बात से अनजान गुड़िया बंसवार में पहुंची। तब सचिन बांस का टुकड़ा लेकर पीछे से सिर पर प्रहार कर उसे अचेत कर दिया। फिर गुड़िया के दोनों हाथों को उसी के दुपट्टे से बांस की खूंटी में बांध दिया। उसके बाद पहले से अपने पास रखा हंसिया निकाला और इत्मीनान से बैठ कर उसके गले को रेत दिया। उसके बाद वह वहां से अपने घर लौटा और फिर गांव छोड़ कर भाग गया

सचिन के निशान देही पर हत्या में प्रयुक्त हसिया पुलिस ने बरामद कर लिया है। गुडिया इन्टरमीडिएट पास थी जब की निठल्ला सचिन हाईस्कूल फेल था।