गोरखपुर – तो 2 % कमीशन ने लिया सैकडो बच्चों की जान 

गोरखपुर के बाबा राघवदास मेडिकल कालेज मे हुए सैकडो बच्चो के मौत के पीछे की सच्चाई जान कर ,आप यह सोचने पर मजबुर हो जायेगे कि देश-प्रदेश मे सत्तारुढ दल बदलते है , सिस्टम नही बदलता। परदे के पीछे की सच्चाई हम आप को बता रहे है। आक्सीजन की सप्लाई करने वाली कम्पनी और सी०एम०ओ०/सी०एम०एस० मे एक अघोषित समझौता होत है  10 % कमीसन का। गैस आपुर्ति करने वालीकम्पनी सी.एम.ओ./ सी.एम.एस. को देती है। बाबा राधवदास मेडिकल कालेज के प्राचार्य से भी यही  10 % का अघोषित समझौता था। पुर्व प्राचार्य के कार्यकाल तक तो ठीक था, लेकिन प्राचार्य बदले तो मामला 12 % कमीसन करने को लेकर अंटक गया। कम्पनी 10 % से अधिक देने को तैयार नही थी और प्राचार्य पर हावी उनकी पत्नी को 12 % से कम किसी भी किमत पर मंजूर नही था। इसी 2 % को लेकर गैस आपुर्ति करने वाली कम्पनी का भुगतान मैडम के इसारे पर रोक दिया गया था। कम्पनी ने बकाया भुगतान न होने पर गैस आपुर्ति को दिया और लगभग 32 बच्चो की मौत हो गयी। परदे के पीछे की क्या सच्चाई है ये तो भगवान ही जाने लेकिन मेडिकल कालेज के कर्मचारियों मे यही चर्चा है   कि 2 % के चक्कर मे बच्चो की जान गयी।

Play Store से हमारा एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें Find us on Play Store