जौनपुर-पत्नी से कहा जा रहा हुं आत्महत्या करने और कर लिया

जौनपुर-बक्शा थाना क्षेत्र के मई गांव में गुरुवार की रात बन्द कमरें में एक स्वास्थ्यकर्मी ने फांसी लगाकर जान दे दी। शुक्रवार की सुबह पुलिस ने शव को कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया। घटना की जानकारी होते ही परिवार में कोहराम मच गया। उक्त गांव निवासी राजेन्द्र प्रसाद उपाध्याय के 35 वर्षीय पुत्र सौरभ उर्फ नितिन उपाध्याय नौपेड़वा सीएचसी अस्पताल पर स्वास्थ्य वर्कर के रूप में आयुष्मान कार्ड बनाते थे।

Also Read:  गाजीपुर-जेल में बन्द सत्याग्रहियों से मिला कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल

गुरुवार की सुबह सौरभ अपनी पत्नी वंदना को मायका वाराणसी छोड़कर शाम को घर आ गए। रात्रि में पत्नी से मोबाइल चैटिंग के दौरान विवाद हो गया। सौरभ ने अपनी पत्नी को जानकारी दिया कि वह कमरा बंद कर फांसी लगाने जा रहा है। यहा जानकारी होते ही पत्नी सौरभ के दोस्तों को फोन कर घटना की जानकारी दी। दोस्त फौरन सौरभ के घर पहुंच गए। मित्रों ने जब सौरभ के बन्द कमरें में बाहर से आवाज लगाई तो कोई हरकत नहीं हुई। पिता राजेंद्र की मौजूदगी में दरवाजा तोड़ा गया। अन्दर का दृश्य देख परिजनो में हाहाकार मच गया। रात्रि में ही पत्नी वंदना अपने पिता चन्द्रमा पाण्डेय व भाइयों के साथ घटनास्थल पर पहुंच गयी। सूचना पर पहुंचे थानाध्यक्ष दिब्य प्रकाश सिंह ने बताया वादी चन्द्रमा पाण्डेय की सूचना पर शव को पीएम हेतु भेज दिया गया।

Also Read:  बलिया-पापा मै जीना चाहती थी लेकिन आत्महत्या को मजबूर हूँ