तो क्या साथियों नें ही किया बब्लू की हत्या ?

गाजीपुर -करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र के महेंद गांव के लापता युवक बबलू कुमार गौड़ आयु 40 वर्ष की सड़ी गली लाश रविवार की सुबह सोनवानी गांव के पास झाड़ी में मिली । मौके पर पहुंचे थानाध्यक्ष करीमुद्दीनपुर सुधाकर राय को ग्रामीणों ने लाश को कब्जे में लेने से रोक दिया। बबलू के हाथ पांव के ज्यादातर हिस्से वन्य जीव खा गए थे । बबलू सोनवानी में परचून की दुकान चलाता था । घरवालों के मुताबिक बीते 24 जुलाई की रात में सोनवानी के राजकीय नलकूप के पास बनी झोपड़ी में पहुंचा ,वहां पहले से ही उसके साथी मौजूद थे । वहां दारु मुर्गा की पार्टी चल रही थी, उसी बीच बबलू का भतीजा उसे लेने गया तब उसने अपने भतीजे से बाद में आने की बात कहकर लौटा दिया। उसके बाद दूसरे दिन महेंद्र गांव का ही रहने वाला उसका साथी दिलशाद बबलू की बाइक पंहुचाने उसके घर गया । घरवालों को किसी अनहोनी की आशंका हुई तो उन्होंने बबलू के बारे में उसके साथियों से जानकारी मांगी। लेकिन किसी ने बबलू के परिवार वालों को संतोषजनक जवाब नहीं दिया। तब घर वालों ने 26 जुलाई को करीमुद्दीनपुर थाने में बबलू के गुमशुदगी की तहरीर दिया। पुलिस गुमशुदगी का मामला दर्ज कर बबलू के साथियों की तलाश में जुट गई। उनमें से चार को हिरासत में लेकर पूछताछ भी की गई साथ ही दिलशाद के घर भी कई बार दबिश दी गई ।अब जबकि बबलू की लाश मिली है तो अब लगभग तय है कि मामला गुमशुदगी का नहीं मामला हत्या का है । बताया जा रहा है कि बबलू का दारू मुर्गा पार्टी के दौरान साथियों से झगड़ा हुआ होगा और उसी दौरान उसके साथियों ने हत्या कर लाश कुछ दूर सरपत की झाड़ियों में फेंक दिया होगा। थानध्यक्ष करीमुद्दीनपुर ने कहा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही मौत का कारण स्पष्ट होगा ।वैसे ग्रामीणों के अनुसार बबलू खुद नशेड़ी था और उसकी संगति भी नशेड़ियों की ही थी ।

Also Read:  जब गले पडा कानून का फंदा तो शादी के लिए राजी हुआ बंदा