प्रयागराज-प्रयागराज हिंसा व बवाल मामले में नया खुलासा

प्रयागराज-पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी को लेकर प्रयागराज हिंसा मामले में नया खुलासा हुआ है. जांच में ये बात सामने आई है कि अटाला में हुई हिंसा में बाहर से भी भाड़ी पर उपद्रवी बुलाए गए थे. पुलिस सूत्रों के मुताबिक़ खुल्लाबाद इलाके में छोटी बड़ी हर मस्जिद में बड़ी संख्या में नमाजी जुटे थे. इसमें मुस्तफा कॉम्पलेक्स के आसपास नमाज के बाद अचानक भीड़ बहुत तेजी से जुटी थी जिसमे कई नए चेहरे भी शामिल थे.

बीजेपी से सस्पेंड नूपुर शर्मा के पैगंबर के खिलाफ विवाद टिप्पणी को लेकर प्रयागराज में भारी हिंसा हुई थी. जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि जो भीड़ जुटी थी इसमें कई नए लोग शामिल थे. जांच में सामने आया कि अटाला में हुई हिंसा में बाहर से शरारती तत्वों को बुलाया गया था और इनलोगों ने काफी उपद्रव मचाया था.सूत्रों की मानें तो नमाज से पहले खुल्दाबाद की एक पेट्रोल पंप पर बड़ी संख्या में बाइक सवार युवक भी पहुंचे थे जिनके साथ इलाके का ही कुख्यात हिस्ट्रीशीटर भी था. बाद में यही बाइक सवार एक नाश्ते की दुकान पर भी देखे गए थे. ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि बवाल में शामिल बाहरी कहीं यही बाइक सवार तो नहीं थे जिन्हें भाड़े पर बुलाया था । प्रयागराज हिंसा के मामले में 5000 से ज्यादा लोगों पर मुकदमा दर्ज है. इनमें 70 उपद्रवी नामजद किये गये हैं. हिंसा फैलाने के आरोप में 29 लोगों पर गंभीर धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करा गया है. प्रयागराज पुलिस अब तक 90 से अधिक उपद्रवियों गिफ्तार हो चुके है. इसके अलावा इस हिंसा के मास्टरमाइंड कहे जाने वाले जावेद पंप के 5 करोड़ के तीन मंजिला इमारत को प्रशासन ने ध्वस्त कर दिया. है।